Previous123Next
छत्तीसगढ़ के पढ़ई तुंहर दुआर ल मिलिस ई-गवर्नेंस अवार्ड

छत्तीसगढ़ के पढ़ई तुंहर दुआर ल मिलिस ई-गवर्नेंस अवार्ड

06-Jun-2021

छत्तीसगढ़ के पढ़ई तुंहर दुआर ल मिलिस ई-गवर्नेंस अवार्ड                         

मुख्यमंतरी अउ स्कूल शिक्छा मंतरी दिस बधई                                        

कोरोना महामारी अउ लॉकडाउन के चलत स्कूल के लइका मन ल घर बइठे ऑनलाइन पढ़ई लिखई के सुविधा 'पढ़ई तुंहर दुआर' के तहत उपलब्ध कराय गिस। छत्तिसगढ़ के ये कारयकरम ल रास्टीय स्तर म परसंसा करे गिस, अउ येला रास्टीय स्तर म ई-गवर्नेंस अवार्ड घलो मिलिस। ये अवार्ड उत्तरप्रदेश के मुख्यमंतरी योगी आदित्यनाथ के उपस्थिति म उत्तरप्रदेश के राज मंतरी स्टाम्प अउ न्यायालय फीस, पंजीयन रविन्द्र जायसवाल के हाथ म परदान करे गिस। छत्तीसगढ़ के तरफ ले संचालक लोक सिक्छन अउ प्रबंध संचालक समग्र सिक्छा जितेंद्र शुक्ला, सहायक संचालक समग्र सिक्छा डॉ. एम. सुधीस अउ एनआईसी के बिग्यानिक ललिता वर्मा ह ये इनाम ला ग्रहण करिन। छत्तिसगढ़ सासन स्कूल सिक्छा बिभाग के महत्वपूरन उपलब्धि म मुख्यमंतरी भूपेश बघेल अउ स्कूल सिक्छा मंतरी डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ह बिभाग के परमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला अउ पूरा टीम ल बधई दिस। 
                                       मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ये इनाम ल छत्तीसगढ़ी के जम्मो सक्रिय सिक्छक मन ल समरपित करिन। जउन मन एक उत्कृस्ट कोरोना वारियर के रूप म अपन महत्वपूरन भुमिका निभाय हे। 
धियान दे के बात हे कि छत्तिसगढ़ के मुख्यमंतरी भूपेश बघेल अउ स्कूल सिक्छा मंतरी डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम दवारा ' पढई तुंहर दुआर' कारयकरम के सुरुवात 7 अप्रैल 2020 के करिन। छत्तिसगढ़ म 20 मार्च 2020 ले स्कूल म लॉकडाउन के घोसना होत ही ये कारयकरम ल जल्दी तइयार करके पूरा परिक्छन करिन। येला स्कूल सिक्क्षा बिभाग के परमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला ह कोविड लॉकडाउन के चलत कार्यालय बन्द होय के स्थिति म अपन निवास म एनआईसी अउ बिभाग के टीम के संग बहुत कम पइसा म बिना कोनो बाहर के एजेंसी ले मदद लेय बिना तइयार करिन।                                               
                                     पढ़ई तुंहर दुआर वेबसाइड म बहुत ही कम समय म सिक्छक मन ल अउ लइका मन ल जोडिन। ये कारयकरम के अलग-अलग घटक मन के प्रचार- प्रसार बर राज के निचला स्तर तक मीडिया सेल ल जोडिन। नोडल अधिकारी, सिक्छ्गक अउ पढ़इया लिखइया लइका मन ये वेबसाइट के उपयोग बर प्रेरित करिस। अभी के स्थिति म वेबसाइड म 25.97 लाख लइका अउ 2.07 लाख सिक्छक जुड़े हे।                                         
'पढ़ई तुंहर दुआर' के वेबसाइट म कछावर अउ विसयवार अब्बड़ अकन सिखे म सहायक सामग्री अपलोड करे गेय हे। ये सामग्री राज्य के सिक्छक ह अपन खुद तइयार करके अपलोड करे हे। कोरोना के चलत सिक्छक पढ़ाय के ये तरीका ल बहुत जल्दी सिख गेय। रोज ऑनलाइन कक्छा ल चलाना, घर म लिखे के काम देना, गिरिह कार्य के जांच करके लइका मन ल जानकारी देना। लइका के संका ल पूछ के ओकर समाधान करे गिस, हर लइका के आकलन के बाद रिकार्ड रखे गिस। सब्बो पाठ्यपुस्तक के पीडीएफ डाउनलोड करें जइसे बहुत अकन सुविधा ये वेबसाइड म देय गिस।  
                                     छत्तिसगढ़ म ऑनलाइन के अलावा ऑफलाइन सिक्छा म घलो बहुत नवाचार सिक्छक मन करे हे। ये कड़ी म मुहल्ला म कक्छा के आयोजन, लाउड स्पिकर के माध्यम ले सिक्छा, बुल्टू के बोल, मिस्ड कॉल गुरुजी जइसे अनेक नवाचार सिक्छक मन बिना कोनो सासकीय आदेश के लइका मन ल अलग-अलग वैकल्पिक साधन के माध्यम ले पढाइस।

कैम्पा मद के रासि के सदुपयोग म छत्तिसगढ़ के रास्ट्रीय स्तर म सराहना

कैम्पा मद के रासि के सदुपयोग म छत्तिसगढ़ के रास्ट्रीय स्तर म सराहना

26-May-2021

कैम्पा मद के रासि के सदुपयोग म छत्तिसगढ़ के रास्ट्रीय स्तर म सराहना
राज्यपाल अनुसुइया उइके कहिन कि छत्तिसगढ़ सरकार वन संरक्षन अउ हरियाली के विस्तार बर जागरूक हे। विगत बछर म 2 करोड़ 23 लाख पेड़-पउधा लगाय गेय हे। जेमा राम वनगमन पथ,  नदिया के तीर म पेड़- पउधा लगाय गिस। 16 हजार हेक्टेयर ले ज्यादा बिगड़े बास वन के सुधार करे गिस। कैम्पा मद के रासि के सदुपयोग म छत्तिसगढ़ के काम के रास्ट्रीय स्तर म परसंसा होय हे। इहि कारन हे कि विगत दू बछर म छत्तिसगढ़ के जउन कार्य योजना स्वीकृत होत हे, ओहा अपन आकार अउ आयाम म देस म अव्वल हे।

रास्ट्रीय योजना के किरियान्वयन म छत्तिसगढ़ देस म अघुवा

रास्ट्रीय योजना के किरियान्वयन म छत्तिसगढ़ देस म अघुवा

06-Jun-2021

रास्ट्रीय योजना के किरियान्वयन म छत्तिसगढ़ देस म अघुवा                                       
छत्तिसगढ़ सरकार रास्ट्रीय योजना अउ कारयकरम ल पुरा लगन ले करिस, जेकर सति 'श्यामा प्रसाद मुखर्जी रुबर्न मिशन' म छत्तिसगढ़ देस म पहिली स्थान ल हासिल करिस। 'प्रधानमंत्री आवास योजना' अउ 'स्वछ भारत मिशन' लागु करे म छत्तिसगढ़ देस म दुसरा स्थान म हे। 86 ग्राम पंचायत के ' ओडीएफ प्लस'  घोसित होय के संग छत्तिसगढ़ ये मापदंड म दूसरा स्थान म हे। ' स्वच्छ सरवेक्छन 2020' म परदेस ल स्वछतम राज के पहिली पुरुस्कार मिलिस। 14 नगरीय निकाय ल घलो रास्ट्रीय स्तर म आने-आने स्तर म पुरुस्कार मिलिस। ये सफलता के श्रेय स्वच्छता दीदी, कमांडो जइसे नाव ले लोकप्रिय कार्यकर्ता मन ल जाथे। 
राज्यपाल ह कहिन कि मोर सरकार सहर ल झुग्गी झोपड़ी मुक्त करे बर गरीब मन ल बेहतर आवास देवाय के दिसा म ' मोर जमीन- मोर मकान' अउ 'मोर मकान- मोर चिन्हारी'  योजना के तहत सफल काम करत हे, जेकर बर भारत सरकार कोती ले राज्य ल पुरुस्कृत करे हे। 
अउ कहिन कि ' प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना' म दु बछर के उन्नति के उल्लेख हे। आने वाला 3 बछर बर 5 हजार 600 किलोमीटर सड़क अउ 26 पुलिया के निर्माण ल स्वीकृति बर मोर सरकार के कार्य कुसलता के सुचक हरय। येकर अलावा 'मुख्यमंतरी ग्राम सड़क योजना' जइसे पहल ले घलो गांव म अच्छा बिकास काम होहि।

परदेस के 95 प्रतिशत ले ज्यादा किसान के धान खरीदे म आघुवा छत्तीसगढ़

परदेस के 95 प्रतिशत ले ज्यादा किसान के धान खरीदे म आघुवा छत्तीसगढ़

26-May-2021

परदेस के 95 प्रतिशत ले ज्यादा किसान के धान खरीदे म आघुवा छत्तीसगढ़                                         

 राज्यपाल ह कहिन की मोर सरकार ह एक बार अउ किसान मन करा वादा निभाए हे। चुनौती मन के बीच सुधार अउ संकल्प के संग समर्थन मूल्य म धान खरीदी करे गए हे। ए बछर सबले ज्यादा 21 लाख 52 हजार 980 किसान पंजीकृत होए हे, जेमा से 20 लाख 53 हजार 483 किसान मन ह अपन धान ल बेचिन। ए प्रकार नवा ब्यवस्था अउ नवा संकल्प से छत्तीसगढ़ 95.40 प्रतिसत किसान मन के धान खरीदे वाला देश के पहिली राज बने हे। धान खरीदे के हर पहलू म एक नवा रिकार्ड बने हे। जइसे पूरा पंजीकृत छेत्रफल , पूरा धान खरीदे के छेत्रफल, पूरा उपार्जित धान के मात्रा 92 लाख मीट्रिक टन ल पार करना कोनो चमत्कार ले कम नई हे। ए उपलब्धि मन से न सिरिफ किसान मन के जीवन म बल्कि पूरा पपरदेस म कृषि उत्पादन अउ खुशहाली के एक नवा युग सुरु होए हे

दूरदरसन म अलग छत्तिसगढ़ी चइनल के मांग करिन फूलोदेवी नेताम

दूरदरसन म अलग छत्तिसगढ़ी चइनल के मांग करिन फूलोदेवी नेताम

06-Jun-2021

दूरदरसन म अलग छत्तिसगढ़ी चइनल के मांग करिन फूलोदेवी नेताम
रायपुर। सांसद फूलोदेवी नेताम ह राज्यसभा म दूरदरसन के छत्तिसगढ़ी भाखा के अलग चइनल बनाय के मांग करिन। सांसद नेताम ह कहिन कि छत्तिसगढ ल अलग राज्य बने 20 बछर हो गेय हे। ये दउरान छत्तिसगढ़ी भाखा के बिकास बर कोनो ठोस कदम नई उठाय गिस।

फूलोदेवी नेताम कहिन कि दूसर राज्य म स्थानीय भाखा के परसारन बर दूरदरसन के चइनल हे, जेमा उहा के स्थानीय भाखा म परसारन करे जात हे. फेर छत्तिसगढ म दूरदरसन अइसे चइनल नई चलात हे। अउ निजी छेतरा के छेतरीय चइनल म छत्तिसगढ़ी भाखा म परसारन होत हे।
राज्यसभा सांसद कहिन कि छत्तिसगढ म एक अइसे चइनल के आवस्यकता हे जउन इहा के कला, संकिरिति  ल बचाय के संगे-संग कलाकार के हित ल घलो सुरक्छित करहि अउ छत्तिसगढ़ म दूरदरसन ये आवस्यकता ल पूरा कर सकत हे।
फूलोदेवी नेताम ह सदन के माध्यम ले मांग करिन कि दूरदरसन ह छत्तिसगढ़ी भाखा म परसारन बर दूसर चइनल चलाय जाय, जेखर ले छत्तिसगढी भाखा के संगे-संग स्थानीय कलाकार, गायक, निर्माता मन के घलो बिकास हो सकय।

छत्तीसगढ़िया मन के बिकास करइया  - भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़िया मन के बिकास करइया - भूपेश बघेल

15-May-2021
छत्तिसगढ़ बिधानसभा म 24 दिसम्बर के चर्चा के बाद ध्वनिमत ले 2 हजार 387 करोड़ रुपया के अनुपूरक बजट पारित करे गिस। दूसरा अनुपूरक के बाद अब प्रदेस के 2020-21 के मुख्य बजट 9 हजार 101 करोड़ रुपया हो गेय। 2020-21 के मुख्य बजट एक लाख 2 हजार 907 करोड़ रुपया रहिस। पहिली अनुपूरक 3 हजार 807 करोड़ रुपया रहिस। बिधानसभा म चर्चा के जवाब देत मुख्यमंतरी भूपेश बघेल कहिन कि प्रदेस सरकार ईमानदारी के साथ धान खरीदी करत हे। किसान ल कोनो प्रकार के परेसानी नई होत हे। बोरा के जउन कमी हे ओला दुर करे के प्रयास होत हे। मुख्यमंतरी कहिन कि हमर प्राथमिकता प्रदेस के गरीब, किसान, मजदूर, महिला अऊ युवा हवय। भूपेस कहिन कि हमन कर्ज ले हन किसान के कर्ज माफी बर, धान खरीदी बर अऊ लोगन के सहायता बर। पहिली के सरकार स्काई वॉक, एक्सप्रेस-वे, मोबाइल खरीदी अऊ नवा राजधानी बर कर्ज लेय रहिन। फेर येकर ले प्रदेस के लोगन ल काहि फायदा नई होइस। मुख्यमंतरी ह नवा तहसील के मांग ऊपर कहिन कि राज्य सरकार ह 24 नवा तहसील बनाय हे। अऊ भविस्य म जब भी नवा तहसील बनाय जाहि त जनप्रतिनिधि मन के मांग ल धियान म राखे जाहि। केंद्र सरकार करिन प्रसंसा मुख्यमंतरी कहिन कि राज्य सरकार ह आम लोगन ल जउन सुविधा उपलब्ध कराय कराइस, ओखर प्रसंसा भारत सरकार अऊ नीति आयोग घलो करिन। कोरोना काल म प्रदेस म 22 हजार ले ज्यादा एकांतवास बनाय गिस। गरीब ल 35 किलो चाउर 3 महीना फोकट म देय गिस। मध्यान्ह भोजन के सूखा रासन लइका मन के घर पहुंचाय गिस। भूपेश बघेल बताइन कि प्रदेस के कई धान खरीदी केंद्र के दौरा करिन। उन्हा भीड़ भाड़ नई रहिस अऊ बेवस्था बढ़िया रहिस। नवा सरकार बने के पहिली प्रदेस म 1900 धान खरीदी केंद्र रहिस, जेन ल पहिली चरन म बढ़ा के 2000 करे गिस। अब 2300 केंद्र म धान खरीदी होत हे। मुख्यमंतरी कहिन कि मोला छत्तिसगढ़ के संस्कृति ऊपर गरब हे, छत्तीसगढ़िया होय के अभिमान हे। नरवा,गरवा, घुरवा,बारी योजना ऊपर कहिन कि नरवा प्रोजेक्ट ल भारत सरकार ह सूरजपुर अऊ बिलासपुर जिला ल पूरा देस म पहला पुरस्कार दिन। गोधन न्याय योजना म अब तक 32 लाख किविंटल ले ज्यादा गोबर के खरीदी हो गेय हे। अऊ पसुपालक ल 64 करोड़ रुपया के भुकतान हो चुके हे। अम्बिकापुर के वर्मी कम्पोस्ट करईया महिला समूह एक बड़का कंपनी के संग 16 रुपया किलो कीमत म बेचे के एमओयू करिस। कहिन कि गोबर हमर बर पवितरा वस्तु हरय। आज भी घर के चूल्हा अऊ पूजा स्थल के लिपाई गोबर ले कर जाथे। गोबर ल हमन अर्थ बेवस्था ले जोड़े हन। छत्तीसगढ़िया मन के बिकास करइया - भूपेश बघेल गोबर ल अर्थबेवस्था ले जोड़ेन
देस के पहिली एथेनॉल प्लांट के स्थापना बर होइस एमओयू

देस के पहिली एथेनॉल प्लांट के स्थापना बर होइस एमओयू

15-May-2021
देस के पहिली एथेनॉल प्लांट के स्थापना बर होइस एमओयू -मुख्यमंतरी भूपेश बघेल के उपस्थिति म 29 दिसम्बर के पीपीपी मॉडल ले स्थापित होवया पहिली एथेनॉल प्लांट के स्थापना बर अनुबंध (एमओयू) करे गिस। अनुबंध भोरमदेव सहकारी सक्कर कारखाना कवर्धा अऊ छत्तीसगढ़ डिस्टलरी लिमिटेड के सहायक इकाई एनकेजे बायोफ्यूल के बीच 30 बछर बर करे गिस। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल कहिन कि किसान मन ल समय म गन्ना के पइसा के भुगतान अऊ सक्कर कारखाना के छमता के पूरा उपयोग करे बर एथेनॉल प्लांट के स्थापना होत हवय। एथेनॉल प्लांट के स्थापना ले छेत्र म प्रत्यक्ष अऊ अप्रत्यक्ष रोजगार के अवसर उत्पन्न होहि। छेत्र म आर्थिक समृद्धि बढ़हि। मुख्यमंतरी बघेल कहिन कि ये सरकार म किसान ले संबंधित मुद्दा अऊ ओकर बिकास के काम होत हे। सक्कर कारखाना के आर्थिक समस्या के पीपीपी मॉडल ले एथेनॉल प्लांट के स्थापना करे जाहि। पीपीपी मॉडल ले एथेनॉल संयंतरा के स्थापना करे जात हे। ये अपन तरह के देस म पहला उदाहरन हे। भूपेश बघेल कहिन कि प्रदेस म एथेनॉल संयंतरा के स्थापना ले बायोफ्यूल के उत्पादन म महत्वपूरन योगदान देहि। सहकारिता मंतरी टेकाम कहिन कि एथेनॉल संयंतरा के लगे ले किसान मन ल समय म गन्ना के पइसा मिलहि। अऊ गन्ना के मांग बाढ़ हे ले ओखर लाभ किसान मन ल मिलहि। एथेनॉल संयंतरा के स्थापना छत्तीसगढ़ डिस्टलरी लिमिटेड ह 40 के एलपीडी छमता के 5.27 करोड़ रुपया स्वीकार करिस। पीपीपी मॉडल के तहत कारखाना ह लाइसेंस के सेती जमीन देहि। ये संयंतरा के स्थापना बर निवेसक ह 100 करोड़ रुपया ले ज्यादा पइसा लगाहि। संयंतरा के निर्मान दु बछर म होहि। एकर बाद एथेनॉल के उत्पादन सुरु हो जाहि।
   देस के मुख्यमंतरी म अगुवा भूपेश बघेल

देस के मुख्यमंतरी म अगुवा भूपेश बघेल

15-May-2021
देस के मुख्यमंतरी म अगुवा भूपेश बघेल मुख्यमंतरी भूपेश बघेल अपन काम के सेती दूसर मुख्यमंतरी मन ले बहुत आगु हवय। ये बात आईएनएस-सी वोटर स्टेट ऑफ द नेशन 2020 सर्वे म साबित होइस हे। जेमा वोहा देश के दूसरा सबले ज्यादा पसंद करइया मुख्यमंतरी अऊ कांग्रेस सासित राज्य के मुख्यमंतरी म पहिली स्थान म आय हवय। रायपुर। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल देस के टॉप 10 मुख्यमंतरी के सूची म दूसरा स्थान म आय हवय। देस के आने-आने राज्य म सरकार के काम-काम ऊपर जनता के संतुष्टि के एक सर्वे करे गिस। सर्वे के बाद मुख्यमंतरी मन के सूची जारी करे गिस। येमा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंतरी भूपेश बघेल टॉप-10 के सूची म सामिल होइन। ये सर्वे आईएनएस सी वोटर ह कराइस, जउन एक भारतीय अंतरराष्ट्रीय मतदान एजेंसी हरय। सी वोटर्स के ये सर्वे म छत्तीसगढ़ सरकार के काम ल 56.74 फीसदी लोगन पुरा अऊ 33.25 प्रतिशत लोगन कम संतुस्ट हे। कुल 81.06 प्रतिसत संतुस्टि के संग भूपेश बघेल सरकार देस म दूसरा नम्बर म आइस। अपना वादा ल पूरा करिन भूपेश बघेल ह चुनई जीते के बाद अपना वादा के अनुसार 25 सौ क्विंटल म धान खरीदिस, अऊ अंतर के रुपया ल राजीवी गांधी किसान न्याय योजना के जरिए 19 लाख ले ज्यादा किसान के खाता म 5750 करोड़ रुपया जमा करहि। दूसर राज्य के तुलना म कम कीमत म लोगन ल बिजली मिलत हे. येखर संग ही लोगन ल सब्बो सरकारी योजना के लाभ सीधा मिलत हे। येकर सेती प्रदेस के लोगन के आर्थिक स्थिति म सुधार आवत हवय। अऊ गांव, गरीब, किसान के जेब म पइसा पहुंचत हवय। न्याय योजना ले प्रदेस के भूपेश सरकार ह जउन वादा चुनई म करे रहिस ओला पुरा करत हे। अऊ कोरोना संकट के बिपति के बेरा पइसा मिले ले लोगन मन ल राहत मिलिस। येखर ले मजदूर, किसान सब्बो के जीवन म खुसहाली आइस हे। मजदूर, किसान के हाथ म पइसा आइस त व्यापार अऊ व्यवसाय घलो बाढ़िस, येकर सेती प्रदेस के आर्थिक स्थिति म सुधार आइस हे। भूपेश बघेल ले थोड़किन आगु 82.96 प्रतिशत संतुस्टि के संग ओडिशा सरकार रहिन। पड़ोसी राज्य ओडिशा के मुख्यमंतरी नवीन पटनायक पहिली नंबर पर रहिन। उंहे मध्यप्रदेश के मुख्यमंतरी शिवराज सिंह चौहान 12वें नंबर पर रहिन। कोरोना संकट काल म देसभर म सब्बो काम अऊ धंधा ठप हे, अइस म छत्तीसगढ़ सरकार ह दूसर राज्य के तुलना म लोगन के हित म ज्यादा काम करिन। येकर फल आज भूपेश बघेल ल देस के नंबर 2 मुख्यमंतरी के रूप म मिलिस।
राजीव गांधी किसान न्याय  योजना किसान हितैसी म अगुवा छत्तीसगढ़

राजीव गांधी किसान न्याय योजना किसान हितैसी म अगुवा छत्तीसगढ़

07-May-2021
राजीव गांधी किसान न्याय योजना किसान हितैसी म अगुवा छत्तीसगढ़ रायपुर। छत्तीसगढ़ म 21 मई के राजीव गांधी किसान न्याय योजना के सुरुआत होइस। भूपेश सरकार के ये योजना ले प्रदेस के 19 लाख किसान परिवार ल लाभ मिलहि। अभी किसान मन के खाता म सीधा रुपया पहुंचे के सुरुआत होगे। योजना ले लाभ पहुंचाय किसान मन कहत हवय कि ये किसान मन बर संजीवनी साबित होही। ये सरकार के फइसला ले ही संभव हो पाइस। भूपेश सरकार वादा ल पूरा करइया सरकार हरय। ये गरीब लोगन के दुख दरद हरइया सरकार हरय। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल योजना के सुभारंभ करत कहिन कि प्रदेस के 19 लाख किसान ल 57 करोड़ रुपया चार किश्त म सरकार देहि। पहिली किश्त म 15 सौ करोड़ रुपया देय जाहि। योजना म धान अऊ मक्का के खेती करइया 9 लाख 53 हजार 706 सीमांत किसान, 5 लाख 60 हजार 284 छोटे किसान अऊ 3 लाख 20 हजार 844 बड़े किसान मन ल लाभ होहि। गन्ना के किसान मन ल 355 रूपया प्रति क्विंटल के भाव म भुगतान करे जाहि। येखर ले गन्ना के खेती करइया 34 हजार 637 किसान मन ल 73 करोड़ 55 लाख रूपया चार किश्त म मिलहि।.प्रथम किश्त के 18.43 करोड़ रूपया जारी होगे। येखर संग वर्ष 2018-19 के बोनस के बकाया 50 रुपया प्रति क्विंटल के दर ले 24 हजार 414 किसान मन ल 10 करोड़ 27 लाख रूपया देय जाहि। न्याय योजना ले धान फसल के 18 लाख 34 हजार 834 किसान मन ल प्रथम किश्त के रूप म 1500 करोड़ रूपया देय जाहि। किसान मन ल प्रति एकड़ अधिकतम 10 हजार रुपया मिलत हे। अइसने गन्ना फसल के 2019-20 म अधिकतम 355 रूपया प्रति क्विंटल के भाव ले भुगतान करे जात हवय। प्रदेस के 34 हजार 637 गन्ना के खेती करइया किसान मन ल 73 करोड़ 55 लाख रूपया चार किश्त म मिलहि। जेमा प्रथम किश्त 18 करोड़ 43 लाख 21 मई के जारी होइस। अऊ 2018-19 म खरीदी करे के 50 रूपया प्रति क्विंटल के भाव ल प्रोत्साहन रासि देय जात हे। येकर तहत प्रदेस के 24 हजार 414 किसान मन ल 10 करोड़ 27 लाख रूपया देय जाहि। ----- राजीव गांधी किसान न्याय योजना के सुभारंभ के बेरा वीडियो कॉन्फेसिंग के जरिये कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी अऊ राहुल गांधी जुड़िन। ये बेरा सोनिया गांधी कहिन कि किसान न्याय योजना राजीव जी के सपन ल साकार करे जइसा हरय। मैं येखर बर भूपेश सरकार ल बधाई देवत हव। ये किसान मन बर क्रांतिकारी योजना साबित होहि। राहुल गांधी कहिन कि ये सिर्फ़ छत्तीसगढ़ के योजना नई हे, पूरा देस ल दिसा देवइया योजना हरय। छत्तीसगढ़ के भूपेश सरकार ल मैं बधाई देवत हव। ------- छत्तीसगढ़ सरकार के महत्वाकांक्षी राजीव गांधी न्याय योजना लॉकडाउन के बिपति के बेरा किसान मन के सहारा बनिस। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल किसान मन के पीरा ल समझ के सल्लग काम करत हवय। येकर ले प्रदेस के किसान मन अब्बड खुस हे। लॉकडाउन के बेरा किसान मन ल योजना म पइसा मिले ले मान बढ़िस हे। दंतेवाड़ा जिला के भोगाम के रहइया महिला किसान फूलोबाई कहिस कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना म पइसा मिलिस हवय। बिपति म पइसा मिलिस त अब्बड़ काम आइस। ये पइसा ले पानी गिरे के पहिली खेती किसानी के तइयारी बर एक सहारा मिलिस। फूलोबाई बताइस कि ये बछर सोसायटी म 62 क्विंटल 80 किलो धान बेचे रहेव अऊ सोसायटी डाहर ले 2 लाख 14 हजार 296 रुपया मिल रहिस। भूपेश सरकार किसान मन के हित म 25 सौ रुपया समर्थन मूल्य म धान खरीदी करिस, अऊ अब अंतर के रासि 42 हजार रुपया चार किस्त म आहि। जेकर पहिली किस्त 11 हजार 276 रुपया सीधा बैंक खाता म जमा होइस। जम्मो रुपया खेती किसानी के संगे संगे परिवार के काम आहि। अइसने बस्तर जिला के तोकापाल विकासखंड के तारागांव म सुखद कहिनी सुने बर मिलिस। गांव के किसान सोमारू मुरिया ल राजीव गांधी न्याय योजना म रुपया मिलिस। ये ओकर जीवन म संजीवनी साबित होइस। छत्तीसगढ़ सरकार के पीरा हरइया योजना ले लोगन के सपना पूरा होवत हे। सोमारु बताइस कि लॉकडाउन के सेती मजदूरी बंद होगे रहिस। येकर सेती परिवार के गुजर बसर म संकट आगे रहिस। आगु कहिस कि ओहा छोटे किसान हरय। खेती के संग मजदूरी करके परिवार ल चलात रहेव। फेर लॉकडाउन लगिस त बाहर के सब्बो काम बंद होगे। येकर ले परिवार के खर्चा चलाय बर संकट आइस। फेर मुख्यमंतरी भूपेश बघेल ह परिवार के मुखिया के तरह लोगन के दरद ल समझिन। बिपति के बेरा राजीव गांधी किसान न्याय योजना ले 2019-20 समर्थन मुल्य म धान बेचइया मन के खाता म पहिली किस्त आइस। अइसे कर भूपेश बघेल परिवार के पीरा हरइया मुखिया के जिम्मेदारी निभाइन। सोमारू बताइस कि ओखर बैंक खाता म योजना के पहिली किस्त के 32 हजार रुपया जमा होइस।
     देस के मुख्यमंतरी अगुवा भूपेश बघेल

देस के मुख्यमंतरी अगुवा भूपेश बघेल

07-May-2021
देस के मुख्यमंतरी अगुवा भूपेश बघेल मुख्यमंतरी भूपेश बघेल अपन काम के सेती दूसर मुख्यमंतरी मन ले बहुत आगु हवय। ये बात आईएनएस-सी वोटर स्टेट ऑफ द नेशन 2020 सर्वे म साबित होइस हे। जेमा वोहा देश के दूसरा सबले ज्यादा पसंद करइया मुख्यमंतरी अऊ कांग्रेस सासित राज्य के मुख्यमंतरी म पहिली स्थान म आय हवय। रायपुर। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल देस के टॉप 10 मुख्यमंतरी के सूची म दूसरा स्थान म आय हवय। देस के आने-आने राज्य म सरकार के काम-काम ऊपर जनता के संतुष्टि के एक सर्वे करे गिस। सर्वे के बाद मुख्यमंतरी मन के सूची जारी करे गिस। येमा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंतरी भूपेश बघेल टॉप-10 के सूची म सामिल होइन। ये सर्वे आईएनएस सी वोटर ह कराइस, जउन एक भारतीय अंतरराष्ट्रीय मतदान एजेंसी हरय। सी वोटर्स के ये सर्वे म छत्तीसगढ़ सरकार के काम ल 56.74 फीसदी लोगन पुरा अऊ 33.25 प्रतिशत लोगन कम संतुस्ट हे। कुल 81.06 प्रतिसत संतुस्टि के संग भूपेश बघेल सरकार देस म दूसरा नम्बर म आइस। अपना वादा ल पूरा करिन भूपेश बघेल ह चुनई जीते के बाद अपना वादा के अनुसार 25 सौ क्विंटल म धान खरीदिस, अऊ अंतर के रुपया ल राजीवी गांधी किसान न्याय योजना के जरिए 19 लाख ले ज्यादा किसान के खाता म 5750 करोड़ रुपया जमा करहि। दूसर राज्य के तुलना म कम कीमत म लोगन ल बिजली मिलत हे. येखर संग ही लोगन ल सब्बो सरकारी योजना के लाभ सीधा मिलत हे। येकर सेती प्रदेस के लोगन के आर्थिक स्थिति म सुधार आवत हवय। अऊ गांव, गरीब, किसान के जेब म पइसा पहुंचत हवय। न्याय योजना ले प्रदेस के भूपेश सरकार ह जउन वादा चुनई म करे रहिस ओला पुरा करत हे। अऊ कोरोना संकट के बिपति के बेरा पइसा मिले ले लोगन मन ल राहत मिलिस। येखर ले मजदूर, किसान सब्बो के जीवन म खुसहाली आइस हे। मजदूर, किसान के हाथ म पइसा आइस त व्यापार अऊ व्यवसाय घलो बाढ़िस, येकर सेती प्रदेस के आर्थिक स्थिति म सुधार आइस हे। भूपेश बघेल ले थोड़किन आगु 82.96 प्रतिशत संतुस्टि के संग ओडिशा सरकार रहिन। पड़ोसी राज्य ओडिशा के मुख्यमंतरी नवीन पटनायक पहिली नंबर पर रहिन। उंहे मध्यप्रदेश के मुख्यमंतरी शिवराज सिंह चौहान 12वें नंबर पर रहिन। कोरोना संकट काल म देसभर म सब्बो काम अऊ धंधा ठप हे, अइस म छत्तीसगढ़ सरकार ह दूसर राज्य के तुलना म लोगन के हित म ज्यादा काम करिन। येकर फल आज भूपेश बघेल ल देस के नंबर 2 मुख्यमंतरी के रूप म मिलिस।

Previous123Next