लईका मन बर सवेंदनसील होवय समाज :भेड़िया

लईका मन बर सवेंदनसील होवय समाज :भेड़िया

15-May-2021
लईका मन बर सवेंदनसील होवय समाज :भेड़िया बिस्व बाल सुरक्षा दिवस : लईका मन बर ज्यादा जागरूक अउ संवेदनसील होए के जरूरत- मंत्री भेंड़िया महिला अउ बाल विकास मंत्री अनिला भेंडिया बिस्व बाल सुरक्षा दिवस के मउका म लईका मन के स्वास्थ अउ सुखी जीवन के कामना करिन। भेंडिया कहिन कि लईका ले संबंधित बाढ़त हिंसा अउ आपराधिक मामला ल देखत हुए हम ऊंखर प्रति अउ ज्यादा ले ज्यादा जागरूक अउ संवेदनसील होए के जरूरत हे। वर्तमान समय म हम सबके जिम्मेवारी हे कि लईका ले संबधित कोने भी तरह के सोसन ल रोके के मामला सामने लाए। हम लईका मन के मानसिक अउ मनोवैज्ञानिक पहलु ल जाने अउ समझे के जरूरत हे। आज हमर सतरकता अउ व्यवहार ह आने वाला पीढ़ी के भविस्य हें। स्व-सहायता समूह के महिला बन बनिन कोरोना वारियर्स, कोरोना वायरस के रोकथाम बर तइयार करिन मास्क केराना वायरस के संक्रमन काल के कठिन समय म महिला स्व-सहयाता समूह कोति ले कोरोना वायरस ले बचाव बर बड़ संख्या म तेन्दूपत्ता संग्रहक अउ वनोपज संग्रहक बर मास्क तइयार करत हे। मास्क बनाके ये ग्रांव के महिला अपन परिवार बर ज्यादा ले ज्यादा पइसा कमा के कोसिस करथें। उन्हे लॉकडाउन के समय म समाज ल कोरोना संक्रमन ले बचाए बर अउ रोकथाम म सहयोग करत हे। ये काम म उत्तर बस्तर कांकेर जिला के लगभग 500 महिला मन कोरोना वारियर्स के रूप म काम कर रोजगार ले जुड गेय। अउ कपड़ा के मास्क तइयार कर बाजार के मूल्य ले भी कम मूल्य म मिलत हे। राष्ट्रीय ग्रामीण अजीविका मिसन, महिला अउ बाल बिकास बिभाग के महिला स्व-सहायता समूह कोति ले मास्क तइयार कर जिला प्रसासन अउ बन बिभाग म उपलब्ध कराय जात हे। बिभाग ग्रामिन महिला स्व-सहायता समूह ह 75 हजार अउ राष्ट्रीय अजीविका मिसन के महिला स्व-सहायता समूह कोति ले 50 हजार मास्क तइयार करे जात हे। जिला प्रसासन मास्क बनाए बर सस्ता दर म कपड़ा समूह ला उपलब्ध कराये जात हे। इखर अलावा समूह कोति ले उत्पादित मास्क के बिक्री म भी सहयोग देय जात हे।
महतारी भाखा ह आत्मबिस्वास् देथे : भूपेश

महतारी भाखा ह आत्मबिस्वास् देथे : भूपेश

15-May-2021
महतारी भाखा ह आत्मबिस्वास् देथे : भूपेश महतारी भाखा म प्राथमिक सिक्षा बर नींव प्रोजेक्ट -महतारी भाखा म प्राथमिक सिक्षा अब्बड़ जरुरी हे। इंही बात ल ध्यान म रख के छत्तीसगढ़ सरकार नींव प्रोजेक्ट सुरुआत करे हे। ये गोठ बात मुख्यमंतरी भूपेश बघेल ह भिलाई के वैशाली नगर उच्च माध्यमिक साला म आयोजित नींव अउ भाखा पिटारा कार्यक्रम म कहिन। आगु कि जब पढ़हइया लइका मन आथे त वो मन अपन संग महतारी भाखा ल लेके आथे। अउ लइका ल एकदम ले दूसर भाखा म सिखाय जाथे। जेन ल हर लइका मन समझ नई पाय। हमर लइका मन के सुरुआती सिक्षा म कोनो तरह के रुकावट मत आय येकर सेती नींव प्रोजेक्ट के सुरुआत करे गेय हे। येकर माध्यम ले अब लइका मन ल अपन महतारी भाखा छत्तीसगढ़ी सिखाय जात हवय। ये पढ़ई के संग-संग सोच बिचार के तरीका ल घलो बिकसित करे जात हे। जेकर ले लइका मन के कल्पना सक्ति बाढ़हि अउ कोनो बिसय ल अच्छा ले समझ सकहि। अउ आत्मबिस्वास ले अपन बात ल घलो राख सकहि। मुख्यमंतरी बताइस कि थोड़िक देर पहिली पढहइया लइका मन ल भौरा के कहिनी बतात रहेव। एक लइका ल पूछेव कि ये का चीज हरय। उत्तर म लट्टू कहिस। जब मैं कहेव कि भौरा हरय त लइका आत्मबिस्वास ले कहिस कि लट्टू हरय। भूपेश कहिन कि लइका ह अपन महतारी भाखा म लट्टू के रूप म सीखे हवय। लोगन मन ल महतारी भाखा ह आत्मबिस्वास देथे। येकरे सेती लइका अपन बात ल दमदारी ले राखिस। भूपेश बघेल कहिन कि महात्मा गांधी घलो महतारी भाखा म सिक्षा ल महत्त्व देत रहिन। उंही ल हमन अपनात हवन। येकर ले पढ़इया लइका मन के समझ अउ भाखा के गियान के बिकास जल्दी होथे। मुख्यमंतरी कहिन कि ये खुसी के बात हरय कि नींव प्रोजेक्ट बर कहिनी अउ सामग्री हमर सिक्सक मन तइयार करे हे। सिक्षा के गुणवत्ता ल बढ़ाय बर ब्लैक बोर्ड टू के योजना चलाय जात हे। बिज्ञान अउ गनित के सिक्षक के कमी ल पूरा करे बर पहल करे हन। अउ कला बिषय के पद रिक्त होय के बाद सिक्षक भर्ती करे जाहि। येकर संग सिक्षक मन ल प्रोत्साहित करे के दिसा म घलो काम करे जात हे। भूपेश बघेल कहिन कि बिचार ल ब्यक्त करे बर भासा के जरुरत पड़थे। येकरे सेती भासा के बिकास जरूरी हे। ये नवा तरीका ले पढ़ई बर सरकार के अब्बड़ जोर हवय। लइका मन अपन महतारी भाखा म संवाद अउ उत्तर दे सकहि त ओखर बिकास तेजी ले होहि। येकर संग सरकार लइका मन के पोसन ऊपर धियान देवत हंवय। भूपेश बघेल कहिन कि सिक्षा ल अच्छा बनाय के जिम्मेदारी हम सब के हरय। येमा पालक अउ सामाजिक संगठन घलो योगदान दे सकत हे। गुनवत्ता सिक्षा के माध्यम ले गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ के लक्ष्य पूरा होहि।
न्याय योजना बनिस किसान बर बरदान

न्याय योजना बनिस किसान बर बरदान

15-May-2021
न्याय योजना बनिस किसान बर बरदान छत्तीसगढ़ म राजीव गांधी किसान न्याय योजना के सुरुआत होइस। भूपेश सरकार के ये योजना ले प्रदेस के 19 लाख किसान परिवार ल लाभ मिलहि। अभी किसान मन के खाता म सीधा रुपया पहुंचे के सुरुआत होगे। योजना ले लाभ पहुंचाय किसान मन कहत हवय कि ये किसान मन बर संजीवनी साबित होही। ये सरकार के फइसला ले ही संभव हो पाइस। भूपेश सरकार वादा ल पूरा करइया सरकार हरय। ये गरीब लोगन के दुख दरद हरइया सरकार हरय। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल योजना के सुभारंभ करत कहिन कि प्रदेस के 19 लाख किसान ल 57 करोड़ रुपया चार किश्त म सरकार देहि। पहिली किश्त म 15 सौ करोड़ रुपया देय जाहि। योजना म धान अऊ मक्का के खेती करइया 9 लाख 53 हजार 706 सीमांत किसान, 5 लाख 60 हजार 284 छोटे किसान अऊ 3 लाख 20 हजार 844 बड़े किसान मन ल लाभ होहि। गन्ना के किसान मन ल 355 रूपया प्रति क्विंटल के भाव म भुगतान करे जाहि। येखर ले गन्ना के खेती करइया 34 हजार 637 किसान मन ल 73 करोड़ 55 लाख रूपया चार किश्त म मिलहि।.प्रथम किश्त के 18.43 करोड़ रूपया जारी होगे। येखर संग वर्ष 2018-19 के बोनस के बकाया 50 रुपया प्रति क्विंटल के दर ले 24 हजार 414 किसान मन ल 10 करोड़ 27 लाख रूपया देय जाहि। न्याय योजना ले धान फसल के 18 लाख 34 हजार 834 किसान मन ल प्रथम किश्त के रूप म 1500 करोड़ रूपया देय जाहि। किसान मन ल प्रति एकड़ अधिकतम 10 हजार रुपया मिलत हे। अइसने गन्ना फसल के 2019-20 म अधिकतम 355 रूपया प्रति क्विंटल के भाव ले भुगतान करे जात हवय। प्रदेस के 34 हजार 637 गन्ना के खेती करइया किसान मन ल 73 करोड़ 55 लाख रूपया चार किश्त म मिलहि। जेमा प्रथम किश्त 18 करोड़ 43 लाख 21 मई के जारी होइस। अऊ 2018-19 म खरीदी करे के 50 रूपया प्रति क्विंटल के भाव ल प्रोत्साहन रासि देय जात हे। येकर तहत प्रदेस के 24 हजार 414 किसान मन ल 10 करोड़ 27 लाख रूपया देय जाहि। ----- राजीव गांधी किसान न्याय योजना के सुभारंभ के बेरा वीडियो कॉन्फेसिंग के जरिये कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी अऊ राहुल गांधी जुड़िन। ये बेरा सोनिया गांधी कहिन कि किसान न्याय योजना राजीव जी के सपन ल साकार करे जइसा हरय। मैं येखर बर भूपेश सरकार ल बधाई देवत हव। ये किसान मन बर क्रांतिकारी योजना साबित होहि। राहुल गांधी कहिन कि ये सिर्फ़ छत्तीसगढ़ के योजना नई हे, पूरा देस ल दिसा देवइया योजना हरय। छत्तीसगढ़ के भूपेश सरकार ल मैं बधाई देवत हव। ------- छत्तीसगढ़ सरकार के महत्वाकांक्षी राजीव गांधी न्याय योजना लॉकडाउन के बिपति के बेरा किसान मन के सहारा बनिस। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल किसान मन के पीरा ल समझ के सल्लग काम करत हवय। येकर ले प्रदेस के किसान मन अब्बड खुस हे। लॉकडाउन के बेरा किसान मन ल योजना म पइसा मिले ले मान बढ़िस हे। दंतेवाड़ा जिला के भोगाम के रहइया महिला किसान फूलोबाई कहिस कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना म पइसा मिलिस हवय। बिपति म पइसा मिलिस त अब्बड़ काम आइस। ये पइसा ले पानी गिरे के पहिली खेती किसानी के तइयारी बर एक सहारा मिलिस। फूलोबाई बताइस कि ये बछर सोसायटी म 62 क्विंटल 80 किलो धान बेचे रहेव अऊ सोसायटी डाहर ले 2 लाख 14 हजार 296 रुपया मिल रहिस। भूपेश सरकार किसान मन के हित म 25 सौ रुपया समर्थन मूल्य म धान खरीदी करिस, अऊ अब अंतर के रासि 42 हजार रुपया चार किस्त म आहि। जेकर पहिली किस्त 11 हजार 276 रुपया सीधा बैंक खाता म जमा होइस। जम्मो रुपया खेती किसानी के संगे संगे परिवार के काम आहि। अइसने बस्तर जिला के तोकापाल विकासखंड के तारागांव म सुखद कहिनी सुने बर मिलिस। गांव के किसान सोमारू मुरिया ल राजीव गांधी न्याय योजना म रुपया मिलिस। ये ओकर जीवन म संजीवनी साबित होइस। छत्तीसगढ़ सरकार के पीरा हरइया योजना ले लोगन के सपना पूरा होवत हे। सोमारु बताइस कि लॉकडाउन के सेती मजदूरी बंद होगे रहिस। येकर सेती परिवार के गुजर बसर म संकट आगे रहिस। आगु कहिस कि ओहा छोटे किसान हरय। खेती के संग मजदूरी करके परिवार ल चलात रहेव। फेर लॉकडाउन लगिस त बाहर के सब्बो काम बंद होगे। येकर ले परिवार के खर्चा चलाय बर संकट आइस। फेर मुख्यमंतरी भूपेश बघेल ह परिवार के मुखिया के तरह लोगन के दरद ल समझिन। बिपति के बेरा राजीव गांधी किसान न्याय योजना ले 2019-20 समर्थन मुल्य म धान बेचइया मन के खाता म पहिली किस्त आइस। अइसे कर भूपेश बघेल परिवार के पीरा हरइया मुखिया के जिम्मेदारी निभाइन। सोमारू बताइस कि ओखर बैंक खाता म योजना के पहिली किस्त के 32 हजार रुपया जमा होइस।
मनरेगा म अगुवा छत्तीसगढ़

मनरेगा म अगुवा छत्तीसगढ़

15-May-2021
मनरेगा म अगुवा छत्तीसगढ़  लाॅकडाउन म मनरेगा के अंतर्गत गाव वाला मन रोजगार दे म छत्तीसगढ़ देस म अगुवा हें, देसभर म मनरेगा काम म लगे कुल मजदुर म से करीब 24 प्रतिसत अकेल्ला छत्तीसगढ़ हे, ये संख्या देस म सबले जादा हे, लाॅकडाउन के बाद अपरेल महिना म 1.23करोड मानव दिवस रोजगार सूरजन लगभग 19.85 लाख मजदुर ला सीधा रोजगार प्रदेस के गाव पंचायत म रोज औसतन 20लाख लोगन ला रोजगार दीन। मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीन गांरटी योजना ) के अबड़ मानक म लाॅक-डाउन के बावजूद छत्तीसगढ़ ह उत्कृष्ट प्रदर्सन करे हे। वित्तीय बछर 2020-21 के सुरूआती म दु महीना म प्रदेस के सार भर के लक्ष्य के 37 फीसदी काम पूरा कर ले गे हें। इंही बच्छर अपरेल अउ मई महिना बर निर्धारित लक्ष्य के विरूध प्रदेस म 175 प्रतिसत काम होए हे। इन दुनो मामला म छत्तीसगढ़ देस म अगुवा हे। दु महिना के भीतर बहुत परिवार ला 100 दिन के रोजगार उपलब्ध कराए म छत्तीसगढ़ दुसरा नम्बर हे। ईहां 1996 परिवार ला 100 दिन के रोजगार दे जा चुके है। चालु वित्तिीय साल म अब तक 5 करोड़ 3 लाख 37 हजार मानव दिवस रोजगार के उपाय करके 25 लाख 97 हजार वाला मन ला काम दियाए गिस। इही समय 1114 करोड़ 27 लाख रूपिया के मजदूरी भूगतान तको करे गिस । कोविड-19 के संक्रमन रोके बर लागू देसव्यापी लांक-डाउन के बाउजूद प्रदेस म ग्रामीन अर्थव्यवस्था ला गतिसील बनाए रखे म मनरेगा के अंतर्गत व्यापक स्तर म सुरू किए काम -बुता के महत्वपूर्न भूमिका हे। कमजोर समय म गरिब आदमी के रोजी-रोटी के चिंता ले मुत्क्त करे के साथ-साथ गांव के अर्थव्यवस्था ला मजबूती दीन। केन्द्रीय ग्रामीन विकास मंत्रालय कोति ले मनरेगा के अंतर्गत चालु वित्तीय साल के पहिली दु महिना अप्रैल अउ मई बर दु करोड़ 88लाख 14 हजार मानव दिवस रोजगार के व्यवस्था लक्ष्य रखेगे रहिस। एखर विरूद्ध प्रदेस ह पांच करोड़ तीन लाख 37 हजार मानव दिवस रोजगार के सृजन करके 175 प्रतिसत उपलब्धि हासिल करीस हे। ऐ बच्छर बर निर्धारित कुल लेबर बजट साढे़ तेरह करोड मानव दिवस के 37 प्रतिसत है चालु वित्तीय साल म अब तक 1996 परिवार ला 100 दिन के रोजगार उपलब्ध कराये गिस हें मनरेगाा म प्रदेस के हर परिवार ला औसत 23 दिन के रोजगार दे गिस। जबकि ऐखर राष्ट्रीय औसत 16 दिन हे। ये मामला म छत्तीसगढ़ पूरा देस म अगुवा हें।
 बिजली उपभोक्ता क्षतिपूर्ति म अगुवा छत्तीगढ़

बिजली उपभोक्ता क्षतिपूर्ति म अगुवा छत्तीगढ़

15-May-2021
बिजली उपभोक्ता क्षतिपूर्ति म अगुवा छत्तीगढ़ जवाबदेही तय करे के नियम लागू करे म छत्तीसगढ पुरा देस म अगुवा विधुत नियामक आयोग ह जारी करिस गाइडलाइन, बिजल कटौती, लाइन व ट्रासफाॅर्मर म खराबी के कारन कई घटां बिजली बंद के मिलने वाला सिकायत ला गंभीरता ल लेवत , छत्तीसगढ़ विधुत नियामक आयोग ह समय-सीमा तय कर दीस । नियम के तय घंटा ले जादा बिजली कटौती करे म वितरन कंपनी ला जुर्माना लगही। कंपनी उपभोक्तामन ला क्षतिपूर्ति दे जाही। उपभोक्तामन के प्रति वितरन कंपनी के जवाबदारी तय करे के नियम लागू करे म छत्तीसगढ़ देस के पहिला राज है उपभोक्तामन ला मिलही क्षतिपूर्ति बिजली बंद होए म वोला चालु करे बर सहरी क्षेत्र म अधिकतम 4 घंटा अउ गांव म 24 घंटा के समय सीमा तय करे गे हे। एखर उल्लंघन होए से वितरन कंपनी ला हर घंटा के 5 रूपिया के दर क्षतिपूर्ति दे ला पड़ही। ओसने ही लाइन म सामान्य खराबी बर सहर म 6 घंटा अउ 12 घंटा ट्रांसफॅार्मर म खराबी बर 24 घंटा अउ 5 दिन, मीटर जले के स्थिती म नवा मीटर लगाए बर सहर म 8 घंटा अउ गांव म 2 दिन के समय निर्धारित करे हे। एखर पालन नहीं होए के स्थिति म उपभोक्तामन ला 50 रूपिया प्रतिदिन के हिसाब ले भुगतान करहि। घरेलू कनेक्सन म देरी पर जुर्माना घरेलू कनेक्सन दे म देरी के सिकायत ला देखत हुए विद्युत नियामक आयोग ह एखर बर प्रावधान करे हें। नवा कनेक्सन समय सीमा म नई होही त वितरन कंपनी उपभोक्तामनला 50 रूपिया प्रतिदिन के हिसाब ले क्षतिपूर्ति रासि दे जाही। छत्तीसगढ़ विद्युत नियामक आयोग ह बछर 2006 म लागू जुन्ना नियम के स्थान म विनियम 2020 लागू कर दये हे। नवा नियम म बिजली सपलाई बंद होए से महिना म जादा ले जादा समय सीमा निधार्रित करे गे हे। समय सीमा के उल्लंघन करे म क्षतिपूर्ति देए के प्रावधान हें। नियम के अनुसार 10 लाख अउ ओखर ले जादा जनसंख्या वाला सहर म अपरेल ले जून के अवधि म कोनो महिना म 10 घंटा ले जादा बिजली बंद रहि त वितरन कंपनी उपभोक्तामनला क्षतिपूर्ति दे जाही, इही माह म अन्य नगरीय अउ गा्रमीन क्षेत्र बर 20 घंटा के समय सीमा रखे गे हे 10 अउ ओखर ले जादा जनसंख्या वाला सहर बर कोनो भी महिना म 6 घंटा, अउ नगरीय क्षेत्र म 20 धंटा ले जादा बिजली बंद होए ले जुर्माना लगहि।
 मंतरी शिव डहरिया पुछिन- साग के कतका किलो बारी के आय न...

मंतरी शिव डहरिया पुछिन- साग के कतका किलो बारी के आय न...

08-May-2021
मंतरी शिव डहरिया पुछिन- साग के कतका किलो बारी के आय न... का साग हे, कइसे किलो देहे, बारी के हे न, तजा हवय न मुरई के कइसे किलो हे, भाटा अउ पताल कइसे देवथ हव... अइसने ठेठ छत्तीसगढ़ी अंदाज म नगरीय प्रसासन मंतरी सड़क म साग बेचइया के बीच पहुचके सब्जी लिन। साग भाजी बेचईया लोगन ले पूछिस कि बाजार म कोनो सुलक तो नई लेवत हे। काबर कि मुख्यमंतरी सब्बो बाजार सुलक ल खतम कर देय हे। मंतरी अधिकारी मन ल निर्देस दिन कि कोचिया मन ले कोनो सुलक मत लेवय, संग ही सहर के मुख्य मार्ग के रोड मार्किंग अउ नगरीय निकाय के मईदान, बाजार म कोचिया-बेपारी मन के बइठे के बेवस्था जिला प्रसासन अउ नगर निगम ल निर्देस दिस। डहरिया ह मुख्यमंतरी के निर्देस के तहत सड़क तीर म बइठया ल कोनो परेसानी मत हो, येकर बेवस्था करे के निर्देस दिस। रायपुर खरोरा के रस्ता म साग भाजी लिन। अउ कहिन कि साग ताजा रहे ले स्वाद घलो रहथे। मंतरी अपन घर बर भाटा, मुरई, नवल गोल, गोभी अउ पताल लिन।
इच्छापूर्ति के सबले अच्छा साधन -मंत्र जाप

इच्छापूर्ति के सबले अच्छा साधन -मंत्र जाप

07-May-2021
इच्छापूर्ति के सबले अच्छा साधन -मंत्र जाप मंत्र जाप करे से कोनो प्रकार के समस्या ल दूर करे जा सकत हे.अपन इच्छा के पूर्ति करे बर मंत्र जाप सबके अच्छा साधन हे .सब्बो मंत्र म गायत्री मंत्र सबले दिव्य अउ चमत्कारी हे. ये मंत्र के जाप करे से सबो मनोकामना पूरा होथे .गायत्री मंत्र ले ब्रह्मज्ञान , दैवीय कृपा , सांसारिक सुख-समृद्धि अउ धन प्राप्त करे जा सकत हे । गयात्री मंत्र ये प्रकार हे - ॐ भूभुर्वः स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात. गायत्री मंत्र देव म सर्वश्रेष्ठ मंत्र हे .ये मंत्र के जाप करे बर पहर हे । गायत्री मंत्र के जाप बर पहली बेरा बिहनिया के होथे । मंत्र के जप करे के दुसरैया बेरा मंझनिया के होथे । मंझनिया म भी ये मंत्र के जाप करे जा सकता हे ।तिसरैया बेरा साँझा के होथे मतलब सुरूज डूबे के पहली । ये तीनो बेरा में जप करे के बाद अउ कोनो समय जप करना होही त मौन रहिके जप करना चाही । गायत्री मंत्र के अर्थ - जग के निर्मान करइया प्रकासमान परमात्मा के तेज के हम ध्यान कर हन , परमात्मा के तेज हमर बुद्धि ल सतमार्ग म चले बर प्रेरित करें । ऐ मंत्र के जप करे बर रुद्राक्ष के माला के प्रयोग करना चाही .गायत्री मंत्र के जप ले मन म उत्साह, विचार म सकारात्मक अउ त्वचा म चमक आथे । गायत्री मंत्र के जप के पढ़ईया लईका मन ल बहुत लाभ मिलथे। ये मंत्र के रोजना एक सौ आठ बार जप करे से पढ़ईया लईका म सबो प्रकार के विद्या प्राप्त करे म आसानी होथे . यदि कोनो आदमी के व्यापार ,नॉकरी म हानि होवत हे य कोनो काम म सफलता नई मिलत हे त उनला गायत्री मंत्र के जप करना चाही .शुक्रवार के पिवरा कपड़ा पहिन के गायत्री माता के ध्यान कर गायत्री मंत्र के आगु अउ पाछे श्री सम्पुट लगा के जप करे से दरिद्रता के नास होथे । यदि कोनो दंपति ल संतान नई ह त संतान ले दुखी है त बिहनिया पति-पत्नी एक संघ सादा कपड़ा पहिन के गायत्री मंत्र के जप करय। कोनो के बर बिहाव म देरी होवत ह त सोमवार के बिहनिया बेरा म पिवरा कपड़ा पहिर के माता पार्वती के ध्यान करते हुय एक सौ आठ बार जप करे से बर बिहाव कारज म देरी नई होवय , बीच म आने वाला विघ्न बाधा दूर हो जथे ।
तिहासिक बूढ़ा तालाब ला पर्यटन स्थल बनाए बर सौन्दर्यीकरन करे जात हे।

तिहासिक बूढ़ा तालाब ला पर्यटन स्थल बनाए बर सौन्दर्यीकरन करे जात हे।

07-May-2021
तिहासिक बूढ़ा तालाब ला पर्यटन स्थल बनाए बर सौन्दर्यीकरन करे जात हे। नगरीय प्रसासन अउ श्रम मंत्री डाॅ.सिवकुमार डहरिय ऐतिहासिक बूढ़ा तालाब ला धरोहर के रूप् म संरक्षित करे बर अउ लोगन ल तरीया,नदी-नाला ला साफ,रखे व सरलग साफ-सफाई बर प्रेरित करे के उद्देष्य ले श्रमदान करिन। जानबा हे कि नगर निगम रायपुर क्षेत्र के तेलीबांधा तरीया,कटोरा तालाब अऊ प्रहलदवा तरीय जईसे सहर म स्थित आन तरीया ला सौन्दर्यीकरन करना हे बल्कि नाला के गंदा पानी ला ट्रीट करके कड़ी म बूढ़ा तलाब ला भी सौन्दर्यीकरन अउ साफ-सफाई करे जात हे। जानबा हे कि तरीया के सौन्दर्यीकरन करके ऐला पर्यटन स्थल के रूप् म विकसित करे बर नगर निगम अऊ रायपुर स्मार्ट सिटी के माध्यम ले करे जात हे। हाइड्रोलिक आर्म ले जलकुंभी अउ खरपतवार ले पटे तरीया के कचरा ला नीकाले जात हे। नगरीय प्रसासन मंत्री डाॅ.डहरिया ह रापा ,कुदारी हाथ म ले के तरीया के जलकुभी अउ गाद के साफ -सफाई करिन नगर निगम रायपुर के महापौर श्री ऐजाज ढेबर,सभापति श्री प्रमोद दुबे तको श्रमदान करिन।
मत्स्य उत्पादन म छत्तीसगढ़ छटवा स्थान म

मत्स्य उत्पादन म छत्तीसगढ़ छटवा स्थान म

06-May-2021
मत्स्य उत्पादन म छत्तीसगढ़ छटवा स्थान म राज सरकार कोरी ले प्रदेस मत्स्य पालन ल बढ़वा दे के कारन छत्तीसगढ़ राज म पाछे दु बछर म मत्स्य बीज उत्पादन म 13 अउ मत्स्य उत्पादन म 9 प्रतिसत के उल्लेख वृद्धि मिले हे ।मछली पालन के क्षेत्र वृद्धि मिले हे ।मछली पालन के क्षेत्र म उल्लेखनीय काम कारज राज के दु मत्स्य कृषक ल राष्ट्रीय स्तर म पुरुस्कार अउ संमानित करे गिस । एम छत्तीसगढ़ राज के मेमर्स एम एम फीस सीड कल्टिवेसन प्राइवेट लिमिटेड माना , जिला रायपुर ल बेस्ट फिसिरिज इंटरप्राइजेज के तहत दु लाख रुपिया के नगद पुरुस्कार अउ प्रशस्ति पत्र अउ मेमर्स एम आई के कॉम्पनी , सिहावा , जिला धमतरी ल बेस्ट प्रोपाइटर फर्म संवर्ग ले एक लाख रुपिया के नगद पुरुस्कार अउ प्रशस्ति पत्र दे जाही । पाछु दु बछर में प्रदेस म 13 प्रतिसत के वृद्धि के संग मत्स्य बीज उत्पादन 251 करोड़ स्टैंडर्ड फ्राई ले 267 करोड़ एस्टेण्डर्स करोड़ एस्टेण्डर्स फ्राइ उत्पादन म करे गिस। देश म राज ह मत्स्य बीज उत्पादन के क्षेत्र म छटवा स्थान मिलिस ।
टेनिस म छत्तीसगढ़ ले मिलिस नवा पहिचान

टेनिस म छत्तीसगढ़ ले मिलिस नवा पहिचान

06-May-2021
टेनिस म छत्तीसगढ़ ले मिलिस नवा पहिचान 19 नवंबर के राजधानी रइपुर के मध्य भारत के सर्वसुविधायुक्त पहली टेनिस अकादमी के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ध् अपन निवास कार्यलय म वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम ले भूमिपूजन कर खिलाड़ी प्रेमी ल बढ़ सौगात दिन । कृषि विश्विद्यालय रइपुर के सांस्कृतिक भवन ले लगे 4 एकड़ भूमि म टेनिस स्पोर्ट्स अकादमी के निर्माण करे जहि । निर्मान बर 15 महीना के समय निर्धारित करें गिस । मुख्यमंत्री ह कहिन की टेनिस अकादमी बने ले राजधानी रइपुर म अंतरराष्ट्रीय स्तर के टेनिस प्रतियोगिता आयोजित कर जहि । ये अकादमी ले टेनिस जगत म छत्तीसगढ़ ल नवा पहिचान मिलहि। संगे संगे छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी ल अपन प्रतिभा निखारे के बेहतर अवसर मिलही ।राजधानी रइपुर के लाभांडी क्षेत्र म टेनिस स्पोर्ट अकादमी म एडमिन बिल्डिंग , हॉस्टल बिल्डिंग अउ एक मुख्य टेनिस कोर्ट के निर्माण करे जाही ।टेनिस कोर्ट के निर्माण अंतरास्ट्रीय स्तर के होही ।।।