महिला आयोग महिला अऊ पुरुस ल निस्पक्छ नियाय देत हे- डॉ किरणमयी नायक

महिला आयोग महिला अऊ पुरुस ल निस्पक्छ नियाय देत हे- डॉ किरणमयी नायक

06-Jun-2021

महिला आयोग महिला अऊ पुरुस ल निस्पक्छ नियाय देत हे- डॉ किरणमयी नायक
छत्तिसगढ़ राजय महिला आयोग के अध्यक्छ डॉ किरणमयी नायक कहिन कि आयोग महिला अऊ पुरुस बर निस्पक्छ होके कारयवाई करत हे। महिला मन ल नियाय देके मतलब ये नई हे कि पुरुस मन के संग अन्याय करे जाय।
डॉ नायक जब ले महिला आयोग के पदभार संभाले हे, तब ले सक्रिय भुमिका निभात हे। आयोग के सुनवाई बर लगातार कई जिला के दौरा करिन। आयोग ह सारीरिक सोसन, दहेज प्रताड़ना, मानसिक प्रताड़ना, संपति विवाद के सुनवाई करिस। जादा मामला पारिवारिक विवाद के आइस। वहीं कोर्ट अऊ थाना म लंबित मामला के सुनवाई आयोग नई करय। फेर अइसन कोनो मामला म आयोग संज्ञान ले सकते हे।
डॉ नायक ल बस्तर म जनसुनवाई के दउरान नगरनार स्टील प्लांट म भू-प्रभावित बेटी मन ले भेदभाव के सिकायत मिलिस।

भगवान बुद्ध, संत कबीर, महात्मा फुले जइसे महान लोगन के बताय रस्ता म चल के सामाजिक क्रांति के पोसक बनव- नंदकुमार बघेल

भगवान बुद्ध, संत कबीर, महात्मा फुले जइसे महान लोगन के बताय रस्ता म चल के सामाजिक क्रांति के पोसक बनव- नंदकुमार बघेल

26-May-2021

भगवान बुद्ध, संत कबीर, महात्मा फुले जइसे महान लोगन के बताय रस्ता म चल के सामाजिक क्रांति के पोसक बनव- नंदकुमार बघेल


भारत क यस हजारो बछर ले धार्मिक, सांस्कृतिक दकियानुसी, रुढिवादी अऊ अमानवीय प्रयास परंपरा ल समाप्त करे बर अनेक महात्मा मन जनम लिन। जेन मन अपन जीवन म कई माध्यम ले समाज के कुरीति ल खतम करे बर अपन जीवन ल नीछावर कर दिस। जेकर परिनाम स्वरुप आज समाज के बड़का वर्ग अपन अधिकार के बल म सम्मान पूरवक अपन जीवन यापन करत हे। समय के संग अपन आरथिक, सामाजिक अऊ बौद्धिक विकास करत हे। 
नंदकुमार बघेल शुरु ले ही सामाजिक बदलाव के पक्षधर रहिन। बघेल अपन जीवन म पत्र, पत्रिका म कई लेख के माध्यम ले अपन विचर राखिस।
नंदकुमार बघेल हमेसा ही सामाजिक कुरीति के खिलाफ जनजागरन करत आत हे। 
जेकर जतका हिस्सेदारी वोकर ओतके भागीदारी ये सोच अऊ विचार ऊपर अडिग हे। नंदकुमार बघेल वरतमान म पूरा भारत म घुम के इही संदेस देत हे कि पिछड़ा समाज ल ओकर हक मिलना चाहि। समाज के सब्बो वरग ल अपन हिस्सा के रोटी अऊ सम्मान मिलना चाहि। बघेल सब्बो समाज ल जोड़ के अपन मिसन म सल्लग आगु बढ़त हे।

 छत्तीसगढ़ के तिहार ल रेलवे अवकास म सामिल करे : सांसद छाया वर्मा

छत्तीसगढ़ के तिहार ल रेलवे अवकास म सामिल करे : सांसद छाया वर्मा

06-Jun-2021

: छत्तीसगढ़ के तिहार ल रेलवे अवकास म सामिल करे : सांसद छाया वर्मा  


  सांसद छाया वर्मा के पहल लाइस रंग, छत्तिसगढ़ के तिहार म रेलवे दिहि छुट्टी 


राजयसभा सांसद छाया वर्मा के पहल रंग लाइस हे। केंद्रीय रेल मंतरी पीयूष गोयल पत्र लिख के छाया वर्मा ल कहिन कि 18 मार्च 2020 के राज्यसभा म दक्छिन पूरव मध्य रेलवे के अवकास सूची म छत्तिसगढ़ के तिहार ल सामिल करे के मामला उठाय रहेव। येकर जांच कराय गिस। दक्छिन पूरव मध्य रेलवे ह कहिन कि रेल मंतरालय के दिसा निरदेस अनुसार,क्षेतरीय रेल के मामला म क्षेतरीय रेल मंडल अऊ कारखाना के मजदूर संगठन संघ के संग चर्चा कर कार्यालय करमचारी बर 16 दिन, कारखाना करमचारी बर 15 दिन सवेतन अवकास अऊ लाइन करमचारी बर 12 सवेतन छुट्टी निरधारित करे गेय हे। येकर अलावा कार्यालय करमचारी बर 2 दिन प्रतिबंधित छुट्टी देय जाथे। जेकर निरधारन स्थानीय तिहार अऊ प्रथा के आधार पर करे जाथे।  
कैलेंडर बछर 2020 म 20 जुलाई के हरेली अऊ 18 दिसंबर 2020 के बाबा गुरु घासीदास जयंती म कारखाना अधिनियम के उपबंध के तहत माल डब्बा मरमत, रइपुर के राजपतरित छुट्टी के सूची म सामिल करे गेय रहिस। बाबा गुरु घासीदास जयंती ल बिलासपुर मंडल म घलो प्रतिबंधित छुट्टी म सामिल करे गेय रहिस। 
छतिसगढ़ के महत्वपूरन घटना,तिहार के सूची दक्छिन पूरव मध्य रेलवे के सब्बो मंडल, कारखाना ल आदेस फेर भेजे गेय हे, ताकि येला कार्मिक अऊ प्रसिक्छन विभाग के दिसा निरदेस अऊ कारखाना अधिनियम के उपबंध के अनुसार कैलेंडर बछर 2021 के छुट्टी सूची म सामिल करे के निरनय ले जा सकय।

सकट उपास...

सकट उपास...

06-Jun-2021

सकट उपास...
महतारी मनके सबले जादा चिंता अउ जतन अपन लइका मन बर ही होथे. एकरे सेती उन एकर मनके खवई पियई, दवई पानी के संगे संगे देवता धामी के असीस पाए बर घलो भारी चेत करथें.
 हमर छत्तीसगढ़ म महतारी मन अपन लइका मन बर 'कमरछठ' के उपास रहिके सगरी बना के महादेव अउ माता पार्वती के पूजा करथें. ठउका अइसने माघ महीना म अंधियारी पाख म घलो छेरछेरा परब के तीन दिन पाछू 'सकट' के उपास रखथें. इहू उपास ल लइका मन खातिर ही रखे जाथे.
 ए दिन महतारी मन दिन भर उपास रहिथें, अउ रतिहा चंदा उवे के बाद वोला अरक (अर्घ्य) दे के पूजा करथें.
 चंदा ल अरक दे के संबंध म एकर आध्यात्मिक कारण ए बताये जाथे, के भगवान गणेश के मुड़ ह, जेन पहिली माता पार्वती द्वारा अपन रखवाली खातिर शरीर के मइल के बनाए गे रहिथे. वोला महादेव ह काट देथे, अउ बाद म वोकर जगा हाथी के मुड़ी लगा देथे. (ए प्रसंग ल सबो जानथें, एकरे सेती कथा विस्तार नइ करे गे हे.)  उही गणेश जी के पहिली मुड़ी ह कटा के चंद्रमा ल म जाके शोभायमान हो जाथे, एकरे सेती आज के दिन चंद्रमा रूपी वो गणेश जी के ही पूजा करे जाथे.
  महतारी मन बढ़िया तिल गुड़ के लाड़ू बनाथें, पिड़हा या पाटा म गोबर के डोंगी बनाथें, गाय के दूध अउ गंगाजल ले वोला भरथें, अउ चंद्रमा ल अरक (अर्घ्य) देके पूजा करथें. ए किसम ले सकट के उपास ल पूरा करथें.
-सुशील भोले-9826992811

छत्तीसगढ़ी भाखा के बड़का साहित्यकार,

छत्तीसगढ़ी भाखा के बड़का साहित्यकार,

06-Jun-2021

छत्तीसगढ़ी भाखा के बड़का साहित्यकार,

     पत्रकार अउ नाटककार रहे टिकेन्द्रनाथ टिकरिहा जी ल आज उंकर 96 वीं जयंती के बेरा म सादर पैलगी... जोहार..
 आदरणीय टिकरिहा जी के एक बड़का बुता जेकर कोनो सोर खबर नइ लेवय, तेकरो आज मैं सुरता करना चाहथंव, के वोमन एक मात्र छत्तीसगढ़िया साहित्यकार आयं जेन  एक हिन्दी दैनिक अखबार म रोज छत्तीसगढ़ी भाखा म संपादकीय लिखयं. 1 नवंबर सन् 2000 के जइसे छत्तीसगढ़ राज निर्माण के घोषणा होइस, उहिच दिन ले उन दैनिक अग्रदूत म छत्तीसगढ़ी म रोज एक संपादकीय लिखे के चालू कर देइन. वो बखत महूं दैनिक अग्रदूत म पत्रकारिता सिखत रेहेंव तेकर सेती उनला नजदीक ले देखे अउ समझे ले मिलिस. वो बखत टिकरिहा जी अग्रदूत के संपादकीय लिखत रिहिन हें. उन दू संपादकीय रोज लिखयं. एक हिन्दी म जेन राष्ट्रीय या अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा ऊपर राहय, अउ एक छत्तीसगढ़ी म जेन प्रदेश स्तर के मुद्दा ऊपर रहय.
  आज उंकर 96 वीं जयंती के बेरा सादर पैलगी.. 
सुशील भोले

लाख के खेती ल मिलिस कृसि के दरजा

लाख के खेती ल मिलिस कृसि के दरजा

06-Jun-2021

लाख के खेती ल मिलिस कृसि के दरजा
रईपुर। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल ह लाख उत्पादक किसान के हित म बड़का निर्नय ले अवय। अब छत्तिसगढ़ म लाख के खेती ल घलो कृसि के दर्जा मिल गेय। 
राजय सासन के ये महत्वपूरन निरनय के तहत कुसुम, पलास, बेर के पेड़ अऊ सेमियालता आदि फसल ल लाख उत्पादन, प्राथमिक प्रसंस्करन बर किसान अऊ ओकर समूह ल कृसि अल्पकालीन लोन मिलहि। येमा लाख उत्पादक अऊ प्राथमिक प्रसंस्करन बर किसान मन ल नियम के अनुसार अनुदान घलो मिलहि। ये आदेस 18 जनुवरी के मंतरालय महानदी भवन ले कृसि विकास व किसान कल्यान अऊ जैव प्रौद्योगिकी विभाग ह जारी करिन।
बता दन कि राजय सरकार ह किसान हित म लेय गेय ये महत्वपुरन निरनय ले छत्तिसगढ़ म लगभग 50 हजार किसान मन ल सीधा लाभ मिलिहि। अभी राजय म 4500 टन लाख के उत्पादन होत हे। राजय म बड़े पइमाना म आदिवासी अऊ वनवासी किसान येकर खेती करत हे. प्रदेस म लाख के खेती के अच्छी संभावना घलो हे। राजय सरकार के ये निरनय के तहत किसान मन ल अल्पकालीन कृसि लोन जइसे सुविधा मिले ले लाख के खेती अऊ येकर उत्पादन ल अऊ बढ़ावा मिलहि। येकर ले राजय म लाख के उत्पादन बढ़कर 10 हजार टन तक हो जाहि।

जीवन ल बनावव पालो के तरल साफ अऊ सुंदर- रूद्र गुरू

जीवन ल बनावव पालो के तरल साफ अऊ सुंदर- रूद्र गुरू

06-Jun-2021

जीवन ल बनावव पालो के तरल साफ अऊ सुंदर- रूद्र गुरू
रायपुर- लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी अऊ ग्रामोद्योग मंतरी गुरु रुद्रकुमार दुर्ग जिला के धमधा विकासखंड के ग्राम गिरहोला मिनी गिरौदपुरी धाम म आयोजित त्रि-दिवसीय बाबा गुरु घासीदास जी के जयंती अऊ गुरु पर्व के समापन कारयकरम म सामिल होइन। ये अवसर म सत समाज के लोगन ल संबोधित करत हुए मंतरी गुरु रूद्रकुमार ह सत्य-अहिंसा के मारग म चले के बात कहिन। बाबा गुरु घासीदास के बताए मार्ग अऊ आदर्स म चलके ही जीवन ल सफल अऊ खुसहाल बनाय जा सकत हे। ये मउका म मंतरी ह मिनी गिरौदपुरी धाम ग्राम गिरहोला स्थित बाबा गुरु घासीदास जी के गुरुद्वारा म पूजा-अरचना कर जैतखाम म पालो चढ़ा के सब्बो मानव समाज के उन्नति अऊ खुलहाली बर कामना करिन। सत समाज अऊ ग्रामवासी ल बाबा गुरु घासीदास के जयंती परब के सुभकामना अऊ बधाई दिन। 
मंतरी गुरू रूद्रकुमार ह कहिन कि सतनाम पंथ के प्रवर्तक संत श्री सिरोमनि बाबा गुरु घासीदास  एक सच्चा पथ प्रदरसद अऊ समाज सुधारक रहिस। ओहा समाज म व्याप्त कुरीति, छुआछूत के बहिष्कार करिस, जीव के प्रति करुना भाव, प्रेम अऊ सदभाव रखे के संदेस दिस। बाबा के संपूरन जीवन मानव कल्यान बर समर्पित रहिस। गुरु घासीदास के बताय मारग म चलके अऊ ओकर आदर्स ल अपन जीवन म अपनाय के बात कहिन। मंतरी बाबा गुरु घासीदास जी के जीवन म प्रकास डालते हुए लोगन ले अपील करिन कि श्रद्धा, सत्य अऊ अहिंसा के संग जीवन जीना चाहि अऊ सब अपन जीवन म अपन करम ल सफेद पालो के तरह साफ, सुंदर, स्वच्छ अऊ बेदाग राखना चाहि। मंतरी कहनि कि अभी बाबा गुरु घासीदास के देय गेय संदेस मनखे-मनखे एक समान आज अऊ जादा महत्वपूरन होगे हे। 
कारयकरम के दउरान मंतरी गुरु रुद्रकुमार ल सत समाज अऊ ग्रामवासी ह अपन समस्या ले अवगत कराइस। लोगन के मांग ऊपर कहिन कि ग्राम गिरहोला म मिनी गिरौदपुरी धाम के विकास अऊ सौंदर्यीकरन काम बर पांच लाख रुपया देय के घोषना करिन। ये अवसर म जनपद अध्यक्ष सरस्वती रात्रे, नगरपालिका अध्यक्ष अहिवारा नटवर ताम्रकार, दुर्गा गजभिये, हीरा वर्मा, बलजीत सिंह, राजमहन्त महेश रात्रे सहित समस्त सत समाज व बड़े संख्या म ग्रामीन उपस्थित रहिस।

जैविक खेती के रकबा बढ़ाय म सहायक सिद्ध होहि गोधन न्याय योजन

जैविक खेती के रकबा बढ़ाय म सहायक सिद्ध होहि गोधन न्याय योजन

06-Jun-2021

जैविक खेती के रकबा बढ़ाय म सहायक सिद्ध होहि गोधन न्याय योजन
बलरामपुर। राजय सासन ह किसान अऊ पसु पालक के आय बढ़ाय के उदेस्य बर गोधन न्याय योजना के सुरुआत करे गेय हे। गोधन न्याय योजना के तहत पसुपालक मन ले 2 रूपया किलो म गोबर के खरीदी करे जात हे। जिला के 6 विकासखण्ड के 100 गउठान म पसुपालक अऊ किसान ले गोबर खरीदत हे। गोबर ले महिला समूह वर्मी कंपोस्ट घलो तइयार करत हवय। गोधन न्याय योजना ले ग्रामीन ल आर्थिक लाभ तो होवत हे संगे संग जैविक खाद के उपयोग ले भूमि के उर्वरा सक्ति घलो बाढ़हत हे। जिला म गोधन न्याय योजना के मूल संकल्पना ल विस्तार देय बर छत्तिसगढ़ राजय ग्रामीन आजीविका मिसन डाहर ले संचालित समुदाय आधारित स्थायी कृसि परियोजना ले गांव म घलो जैविक कृसि ल बढ़ावा देवत हे। जिला म गोधन न्याय योजना के तहत 36 हजार 164.62 क्विंटल गोबर के खरीदी करे गिस अऊ 233.3 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट बेचे हवय।
रसायन के जादा उपयोग करे ले जमीन के उरवरता खतम हो जथे अऊ फसल के उत्पादकता ऊपर असर पड़थे। फसल म रसायन के जादा उपयोग के कई नुकसान हे। येकर परिनाम भयाकर हो सकत हे। राजय सासन ह खेती के परम्परागत पद्धति अऊ गोबर खाद के उपयोग ल बढ़ावा देय के उदेस्य ले सुराजी गांव योजना अऊ गोधन न्याय योजना के सुरूआत करिस। गांव म लम्बा समय ले चलत आत कृसि परनाली समावेसी विकास के सिद्धान्त ऊपर आधारित हे, जेला एक बार अऊ सुरु करके सफल प्रयास करे जात हे। इही क्रम म रास्ट्रीय ग्रामीन आजीविका मिसन के महिला मन गउठान म वर्मी कम्पोस्ट तइयार करे के संग ही समुदाय आधारित स्थायी कृसि परियोजना के तहत गांव-गांव म जैविक खेती के रकबा बढ़ाय म अच्छा भूमिका निभात हे। सासन के विभिन्न विभाग ह वर्मी कम्पोस्ट के उपयोग गउठान म सामुदायिक बारी अऊ उद्यान म पौधा लगाय बर करत हे। उंही ग्रामीन महिला किसान अपन खेत अऊ घर के बारी म घलो जैविक खाद के उपयोग करत हे। वर्तमान म गउठान म 751.20 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट के पैकिंग होत हे अऊ 35 हजार 360.12 क्विंटल गोबर वर्मी टांका म कम्पोस्ट बर काम होवत हे। वर्मी कम्पोस्ट तइयार करे बर 100 स्व-सहायता समूह के 736 महिला जुड़े हे अऊ खाद बेच के अच्छा आय मिलत हे। गोधन न्याय योजना म समूह के महिला अऊ ग्रामीन किसान महिला के भागीदारी ले जैविक खेती के रकबा बाढ़िस। महिला मन गांव-गांव म गोबर खरीदत हे अऊ जैविक खाद ल बढ़ावा देय बर जनजागरूकता रैली के घलो आयोजन करत हे।

जी अस्पताल ले अच्छा सुविधा जिला अस्पताल म हवय- मंतरी जयसिंह अग्रवाल

जी अस्पताल ले अच्छा सुविधा जिला अस्पताल म हवय- मंतरी जयसिंह अग्रवाल

06-Jun-2021

जी अस्पताल ले अच्छा सुविधा जिला अस्पताल म हवय- मंतरी जयसिंह अग्रवाल
कोरबा। राजस्व अऊ आपदा प्रबंधन मंतरी जयसिंह अग्रवाल कोरबा सहर के जिला अस्पताल म नवा सुविधा के  लोकारपन करिन। राजस्व मंतरी ह इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय म दु यूनिट माड्यूलर आपरेसन थियेटर, 10 बिस्तर के इमरजेंसी ट्रामा यूनिट, 10 बिस्तर के आधुनिक आई.सी.यु. अऊ आठ बिस्तर के बर्न यूनिट के उद्घाटन करिन। अग्रवाल ह जिला के लोगन के सेवा म स्वास्थ्य सुविधा के बढ़ाय बर आधुनिक, रिमोट कंट्रोल चलित सेंसर युक्त आपरेसन थियेटर ल जिला अस्पताल म प्रारंभ करिन। ये दउरान राजस्व मंतरी ह कहिन कि जिला म ये सब्बो सुविधा के सुरू होय ले निजी अस्पताल ले अच्छा सुविधा मिलहि। मंतरी कहिन कि राजय सरकार लोगन के स्वास्थ्य सुविधा ल लगातार बढ़ात हे। मोहल्ला क्लीनिक घलो सुरू करे जाहि, जेकर परिक्छन चलत हे।
जिला खनिज न्यास मद ल सबके सलाह ले विचार करके जनसेवा म खरचा करे जाथे। डीएमएफ मद के जादा चिकित्सा अऊ स्वास्थ्य छेतरा म सदुपयोग करे जात हे। आधुनिक सुविधा ले सुसज्जित स्वास्थ्य सुविधा के लोकारन समारोह म महापौर नगर निगम कोरबा राजकिशोर प्रसाद, सभापति नगर निगम श्याम सुंदर सोनी, मुख्य चिकित्सा अऊ स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी. बी. बोडे, सिविल सर्जन डॉ. अरूण तिवारी सहित जिला अस्पताल के समस्त मेडिकल स्टाफ अऊ सहर के लोगन आय रहिन। 
राजस्व मंतरी अग्रवाल जिलेवासी ल कहिन कि जेन स्वास्थ्य सुविधा बर बड़का सहर जाय ले पड़त रहिस अऊ लाखों रूपया खर्च करे बर पड़त रहिस, अब उंही सुविधा जिला अस्पताल म उपलब्ध हे। डायलिसिस के आवस्यकता वाले मरीज के सुविधा बर पांच डायलिसिस मसीन युक्त सेंटर घलो जिलेवासी बर फोटक म मिलहि। आधुनिक सुविधा वाले आपरेसन थियेटर सुरू करे गेय हे। दुर्घटना म जले मरीज ल पहिली पांच-सात घंटा रायपुर ले जाय म समय लगत रहिस। समय म देरी होय सेती मरीज के जान बचाय म दिक्कत होत रहिस। अब जिला अस्पताल म स्थापित बर्न यूनिट के माध्यम ले अइसे मरीज ल तुरते ईलाज के सुविधा मिलिहि। अऊ मरीज के जान बाचहि। 
मंतरी कहिन कि जिला म मेडिकल स्टाक के बढ़ाय बर 100 ले जादा डाक्टर, नर्सें, पैरामेडिकल स्टाफ के भरती करे जाहि, जेमा लोगन ल अच्छा सुविधा मिलहि। सब्बो मेडिकल स्टाफ ले अनुरोध करत हुए कहिन कि चिकित्सा के क्षेतरा म काम करत हुए लोगन के फर्ज अऊ नैतिक जिम्मेदारी हवय कि मरीज के ईमानदारी ले सेवा करव। आप मन ये जिम्मेदारी सेवा भाव बर देय गेय हे, मे चाहत हव कि आप मन लोगन अच्छा सेवा करहु। आम लोगन, गरीब अऊ दूरस्थ वनवासी ईलाज बर आथे, ओ मन भटके बर ना पड़य अऊ सब्बो झन के अच्छा ईलाज करे जाय। राजस्व मंत्री ह डाक्टर मन ल कहिन कि बिना वजह के कोनो मरीज ल निजी अस्पताल म रेफर मत करहु।
राजस्व मंतरी अग्रवाल कहिन कि मुख्यमंतरी बघेल ह जिली के बिकास कार्य के जउन घोसाना करे हे ओला जलदी पुरा करे बर अधिकारी मन ल निरदेसित करिस। घोसना पूरा करे बर अऊ बजट म जुड़वाय बर अऊ बिकास के रननिति ऊपर बइठक म चरचा करे गिस। जिला म बनने वाला सड़क ल सुगम तरीका ले पूरा करे बर बइठक म रननिति बनाय गिस। अग्रवाल कहिन कि जउन काम 20 बछर म नई होय रहिस, ओहा हमर दु सरकार के दु बछर म होइस। अवइया तीन बछर म अऊ अच्छा बिकास के काम होहि।

निजी स्कूल ल मिलिस आनलाइन 101 करोड़ रुपया-मंतरी प्रेमसाय

निजी स्कूल ल मिलिस आनलाइन 101 करोड़ रुपया-मंतरी प्रेमसाय

06-Jun-2021

स्कूल सिक्छा मंतरी प्रेमसाय सिंह टेकाम ह सिक्छा के अधिकार अधिनियम के तहत 4 हजार 473 निजी स्कूल के सिक्छिन सुल्क के 101 करोड़ रुपया सीधा खाता म ऑनलाइन ट्रांसफर करिन। छत्तिसगढ़ अइसन पहिली प्रदेस हरय जिन्हा सिरफ कोरोना काल म 51 हजार 985 लइका ल प्रवेस कराईस अऊ ओकर फीस ऑनलाइन भेजे गिस। अब तक सिक्छा के अधिकार के तहत 33 लाख 65 हजार 552 छात्र ल लाभ मिलिस।
सिक्छा के अधिकार के मामला म  छत्तिसगढ़ के ये मॉडल ल ओडिसा,झारखंड अऊ असम म घलो अपनावत हे।
ये मउका म प्रेमसाय कहिन कि छत्तिसगढ़ म पहिली बार सिक्छा के अधिकार के पइसा ऑनलाइन स्कूल ल देय गिस। मंतरी टेकाम बताइस कि अब्बड़ समय ले ये मांग बार बार आवत रहिन कि निजी स्कूल म सिक्छा के अधिकार के तहत वंचित वर्ग के फीस समय म नई मिल पात हे, येकर सेती पइसा प्रदेस ले सीधा खाता म भुगतान के बेवस्था करे गिस। ये पहल ले सब्बो बेवस्था अच्छा होइस। मंतरी कहिन कि कोरोना काल के बाद भी वर्तमान सिक्छा सतरा म जनुवरी 2021 के स्थिति म 51 हजार 985 लइका मन के प्रवेस हो गेय हे।
हैडिंग
  निजी स्कूल ल मिलिस आनलाइन 101 करोड़ रुपया-मंतरी प्रेमसाय