खेती-किसानी अउ वन उद्योग लगाय बर पोरत्साहित करे हे राज्य सरकार: मंतरी लखमा

खेती-किसानी अउ वन उद्योग लगाय बर पोरत्साहित करे हे राज्य सरकार: मंतरी लखमा

06-Jun-2021

खेती-किसानी अउ वन उद्योग लगाय बर पोरत्साहित करे हे राज्य सरकार: मंतरी लखमा                                       

       उद्योग मंतरी जिला स्तरीय कारयसाला 'उद्यम समागम' म होइस सामिल          
उद्योग मंतरी अउ महासमुंद जिला के परभारी मंतरी कवासी लखमा महासमुंद के शंकराचार्य सांस्कृतिक भवन म आयोजित जिला स्तरीय उद्यम समागम कारयसाला म सामिल होइस। लखमा कहिन कि छत्तिसगढ़ के नवा उद्योग नीति ल राज्य सरकार के उद्योग छेतरा म बड़े संभावना अउ मउका हे। राज्य सरकार खेती -किसानी अउ वन आधारित उद्योग लगाय बर पोरत्साहित करत हे। ये उद्योग मन के बने ले जिला म काम बुता के मउका बाढ़ गेय, अउ संगे संग परयावरन हितइसी होय ले परयावरन ल नुकसान नई होवय। छत्तिसगढ़ के नवा उद्योग नीति के तहत औद्योगिक निवेस पोरत्साहन ल बढ़ावा देय बर राज्य के सब्बो विकासखंड मन ल औधोगिक बिकास अउ पिछड़ेपन के नजर ले चार भाग म बांटे हे। येकर ले कई अनुदान अउ रियायत औद्योगिक इकाई ल देय जाथे। आग कहिन कि परदेस सरकार ह पहलि बार उद्योग नीति म सेवा के छेतरा ल जोड़े हे। मंतरी कवासी लखमा कहिन कि परदेस के उद्योग म स्थानीय मजदूर मन ल काम बुता देय के पारथमिकता होहि। छत्तिसगढ़ के मुख्यमंतरी भूपेश बघेल ह उद्योग नीति बनाय बर अब्बड़ अकन राज्य के उद्योग नीति उपर बिचार-बिमर्श, मंथन अउ उद्योगपति मन सग चरचा के बाद देस के सबले बढ़िया छत्तिसगढ़ के उद्योग नीति लागू करे हे। ये नीति ले आवेदन करहि त पातरा आवेदक मन बर जल्दी उद्योग स्थापित हो जाहि।  
              मंतरी ह कहिन कि मुख्यमंतरी के सियानी म प्रदेस के सब्बो जिला म उद्यम समागम के आयोजन करे गेय हे। जेमा आम आदमी से लेके वरतमान अउ भविस्य के उद्योगपति आत हे। ओ मन ल मंच देवत हे कि कइसे छत्तिसगढ़ ल आघु बढ़ाना हे। युवा मन ल काम कइसे उपलब्ध कराना हे। ये सब्बो मुद्दा मन म बिस्तार ले गोठबात करत है।                                 
उद्योग मंतरी लखमा कहिन कि राज्य म सरकार के अब्बड़ अकन महत्वाकांक्छी योजना संचालित होत हे। येमा सबले बड़का योजना सुराजी ग्राम योजना हरय। येकर अंतर्गत गऊ साला एक बहुउद्देश्यीय रोजगारोन्मुखी कारयकरम हरय। जेमा स्व-सहायता समूह के माइलोगिन मन ल अलग-अलग काम के परसिक्छन देके ओकर मन के आर्थिक स्थिति ल मजबूत करे जात हे। ओ मन ल उहि काम के परसिक्छन देय जात हे, जेमा ओकर उत्पादन ल छत्तिसगढ़ म बेचे जा सकय। माईलोगिन मन वर्मी कम्पोस्ट ले लेके अगरबत्ती, वासिंग पाउडर, पोल फेंसिंग अउ साग भाजी के उत्पादन करके बने कमई करे जा सकत हे। ये मउका म मंतरी कवासी लखमा ह एक हजार 335 हेक्टेयर छेतराफ़ल के सात सामुदायिक वन संसाधन अधिकार मान्यता पतरा बांटिस।                                              
            कार्यशाला ल संसदीय सचिव अउ विधायक विनोद चंद्राकर छत्तिसगढ़ राज्य वन बिकास निगम के अध्यक्छ अउ विधायक बसना देवेंद्र बहादुर सिंह, जिला पंचायत अध्यक्छ उषा पटेल जम्मो झन ह संबोधित करिस। कार्यसाला म कलेक्टर डोमन सिंह, पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल कुमार ठाकुर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डॉ रवि मित्तल सहित जिला के उद्योगपति सहित जनप्रतिनिधि सामिल होइस। जम्मो संचालक उद्योग संजय सिन्हा ह उद्योग ल आघु बढ़ाय के जानकारी दिस। पहुना मन के सेवा सत्कार जिला उद्योग के महाप्रबंधक एके सिंह करिस।

 मैनपाट परयटक मन के पहिली पसंद -परयटन मंतरी ताम्रध्वज साहू

मैनपाट परयटक मन के पहिली पसंद -परयटन मंतरी ताम्रध्वज साहू

06-Jun-2021

 मैनपाट परयटक मन के पहिली पसंद -परयटन मंतरी ताम्रध्वज साहू
 परयटन मंतरी ताम्रध्वज साहू अउ संस्किरिति मंतरी अमरजीत भगत ह मैनपाट के रोपाखार म आयोजित तीन दिन के मैनपाट महोत्सव के समापन करिन। ये मउका म परयटन मंतरी साहू ह संस्किरिति मंतरी भगत के अनुरोध म मैनपाट के चिन्हांकित 14 नवा परयटन पॉइंट म पहुंचे के रददा के संगे संग विकास कार्य के तुरते मंजुरी देय के बात कहिन।           

मंतरी साहू ह समारोह म कहिन कि मैनपाट सरगुजिहा, भोजपुरी अउ तिब्बती संस्कृति ह तीन नदिया के संगम जइसे हे। इहा पहाड़, नदिया, झरना, इमारती लकड़ी,  बन के जरी-बुटि संपन्न होय के संग लोककला अउ संस्कृति के सानदार इतिहास घलो हे। येकर सेती दुनिया भर के परयटन के नक्सा म मैनपाट पहिलि पसंद हे। आगु कहिन कि महोत्सव आयोजन के उद्देस्य अलग-अलग संस्किरिति के अउ अपन परम्परा ल संभाले के संग युवा मन न जानकारी देना अउ समझाना हरय। मैनपाट के माटी म प्रभु श्री राम के चरन के धुल मिले हे। ये सब के सेति छत्तिसगढ़ सासन ह इहा के रहिइया मन के रोजगार बर कमलेश्वरपुर म 21 करोड़ रुपया के एथनिक रिजार्ट के काम कराय जात हे। बन बिभाग इहा के परयटन पॉइंट म 3 करोड़ 50 लाख रुपया ले अलग-अलग बिकास के काम करवात हे। 

मंतरी साहू कहिन कि मुख्यमंतरी भूपेश बघेल के इच्छा अनुरूप छत्तिसगढ़ म परयटन स्थान के बिकास करे जात हे। येकर बर परयटन नीति तइयार करे गेय हे। ये मउका म संस्किरिति मंतरी अमरजीत भगत ह कहिन कि मैनपाट महोत्सव के उद्देस्य इहा के सीधा-साधा लोगन मन के जीवन संस्किरिति अउ लोककला ल आघु बढ़ाय के संग रोजगार  पलब्ध कराना हे। ये तीन दिन के आयोजन म लोगन मैनपाट ल अच्छा तरीका ले जानिन अउ भरपुर मनोरंजन करिन। अउ कहिन कि मैनपाट म परयटन बिकास बर बुद्धिस्ट सर्किट म जोड़े बर प्रस्ताव केंद्र सरकार ल भेजे गेय हे।                                              
समापन समारोह म छत्तिसगढ़ पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष थानेश्वर साहू, छत्तिसगढ़ खाद आयोग के अध्यक्ष गुरपीत सिंह बाबरा, पुलिस महानिरीक्षक आरपी साय, कलेक्टर राजीव कुमार झा, मुख्य बन संरक्षक अनुराग श्रीवास्तव, पुलिस अधीक्षक टीआर कोशिमा सहित अउ स्थानीय जनप्रतिनिधि अउ बड़े संख्या म परयटक आय रहिन।

छत्तीसगढ़ म हर्बल ल अंतराष्ट्रीय बजार म एंट्री मिलिस: दुबई म आकर्षण के केंद्र रहिस  छत्तीसगढ़ हर्बल प्रोडक्ट के स्टाल।

छत्तीसगढ़ म हर्बल ल अंतराष्ट्रीय बजार म एंट्री मिलिस: दुबई म आकर्षण के केंद्र रहिस छत्तीसगढ़ हर्बल प्रोडक्ट के स्टाल।

06-Jun-2021

छत्तीसगढ़ म हर्बल ल अंतराष्ट्रीय बजार म एंट्री मिलिस: दुबई म आकर्षण के केंद्र रहिस  छत्तीसगढ़ हर्बल प्रोडक्ट के स्टाल।                       

                 छत्तीसगढ़ राज म मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल के आघुवाई सरकार सिर्फ दु बछर के सीमित अंतराल म 'गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ के रददा म तेजी से बढ़त हे। प्रदेश के इच्छुक जिला मन म जिहा एक कोति औद्योगिक विस्तार के नवा संभावना खोजे जात हे, उहे छत्तीसगढ़ राज के आदिवासी मन ल आत्मनिर्भर बनाए के उद्देश्य ले वनोपज के व्यापार ल अंतराष्ट्रीय चिन्हारी देवाए बर सरकार ह अपन कोशिश न बढ़ा दे हे। नवा वनोपज नीति के तहत सरकार निजी मार्केटिंग कंपनी मन ल छत्तीसगढ़ राज के वनोपज ल राष्ट्रीय अउ अंतराष्ट्रीय स्तर म मार्केटिंग के काम सौपे हे। जेकर बढ़िया नतीजा आघु आवत हे। अभी - अभी दुबई म आयोजित अंतराष्ट्रीय स्तर के हर्बल प्रोडक्ट व्यापार मेला म छत्तीसगढ़ के वनोपज उत्पादन के मार्केटिंग कंपनी अवनीस हर्बल के प्रदर्शनी के माध्यम से प्रदर्शित करिस। जेकर साथ भविष्य म बढ़िया नतीजा आए के संभावना हे।   वनोपज के ए कामकाज के जरिया प्रदेश के वनांचल छेत्र म हजारो आदिवासी मन बर न केवल रोजगार के उत्पत्ति करे हे। दरसल छत्तीसगढ़ राज के 44 प्रतिसत छेत्र बन से घिरे हुए हे।राज के बहुत सुंदर बन के छेत्र म लगभग सब्बो प्रकार के जैव विविध वनस्पति अउ आयुर्वेदिक जरी-बुटी उपलब्ध हे। भूपेश बघेल के सरकार ए सम्पत्ति मन के व्यवस्थित व्यावसायिक दोहन के कारगर रणनीति  तियार करे म सफल रहिन। बन संपदा मन के उपयोग अउ व्यावसायिक फायदा ल सरकार के नीति से जोडके आदिवासी मन ल समृद्ध बनाय के दिशा म उठाय गए छत्तीसगढ़ सरकार के ये कदम , अब विश्व स्तर म सुर्खियां बटोरत हे। उहे वैशविक स्तर म बजार उपलब्ध होए से केवल ए उत्पादन के मांग बढ़े हे। बल्कि जमिनी स्तर  म स्व- सहायता समूह मन के जरिया आदिवासी मन तक सीधा फायदा भी पहुँचत हे।                                          वन्य अउ जलवायु म बदलाव मंत्री मोहम्मद अकबर के मार्गदर्शन अउ छत्तीसगढ़ राज लघु वनोपज संघ के निर्देशन म संचालित  संजय शुक्ला ह बताइन की ए उत्पादन म स्वास्थ्यवर्धक आस्वागन्धा , त्रिफला पाउडर, च्यवनप्राश, सहद से लेके फेस पैक पाउडर तक के विशाल श्रृंखला मौजूद हे। स्वादिष्ट अउ शुद्ध मुरब्बा अउ अचार ह स्व- सहायता समूह मन दवारा बनाए गए हे। लगभग 90 से ज्यादा उत्पादन के पैकेजिंग अउ प्रोसेसिंग के दवारा छत्तीसगढ़ सरकार आदिवासी मन के समृद्धि के दिशा म एक नवा लछ्य के ओर सतत अग्रसर होवत हे।                                              बाजारवाद के ए युग म निजी कंपनी मन के उत्पादन के गुणवत्ता ल लेके सवाल उठाना जरूरी हे। लेकिन सरकार के निर्देशन म स्व-सहायता समूह मन दवारा संचालित छत्तीसगढ़ वनोपज उत्पादन के निर्माण इकाइया मन म सुद्धता अउ गुणवत्ता के पूरा रूप के ध्यान रखे गए हे। जरी- बुटी मन से लेकर अन्य उत्पादन मन के संकलन से लेकर प्रसंस्करण सबकुछ विशेषज्ञ के निगरानी म संचालित हे। एहि कारण हे कि हर्बल प्रोडक्ट के गुणवत्ता अउ सुद्धता ह बजार म अपन जगा बनाय के सुरु कर देहे।

डॉ. खूबचंद बघेल छत्तीसगढ़ के स्वाभिमान के प्रतीक:  भूपेश बघेल : मुख्यमंत्री ग्राम पथरी म डॉ. खूबचंद बघेल के पुण्यतिथि म आयोजित 'पुरखा के सुरता'

डॉ. खूबचंद बघेल छत्तीसगढ़ के स्वाभिमान के प्रतीक: भूपेश बघेल : मुख्यमंत्री ग्राम पथरी म डॉ. खूबचंद बघेल के पुण्यतिथि म आयोजित 'पुरखा के सुरता'

06-Jun-2021

डॉ. खूबचंद बघेल छत्तीसगढ़ के स्वाभिमान के प्रतीक:  भूपेश बघेल : मुख्यमंत्री ग्राम पथरी म डॉ. खूबचंद बघेल के पुण्यतिथि म आयोजित 'पुरखा के सुरता' कार्यक्रम म जुरियाइन।                                   

  नवा रायपुर के मुख्य चउक म डॉ. खूबचंद बघेल के आदमकद मूर्ति के स्थापना बर अउ ग्राम पथरी के सड़क ल टू- लेन बनाए के घोषणा।               

          मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ह कहिन की डॉ. खूबचंद बघेल ह न सिर्फ छत्तीसगढ़ के स्वप्न दृष्ट्या रहिन बल्कि छत्तीसगढ़ के स्वाभिमान के प्रतीक रहिन। ओ चाहत रहिन की छत्तीसगढ़िया स्वाभिमान से जिये, स्वावलंबी हो अउ जीवन के सब्बो छेत्र म ओकर विकास हो। डॉ. खूबचंद बघेल ह छत्तीसगढ़ के अस्मिता अउ सामाजिक कुरीति मन के खिलाफ जिनगी भर संघर्ष करिन। ओहर छत्तीसगढ़ी संस्कृति ल बढ़ावा दे के भारी समर्थक रहे हे। मुख्यमंत्री श्री बघेल आज डॉ. खूबचंद बघेल के 52 वी पुण्यतिथि के मउका म ग्राम पथरी (धरसींवा) म पुरखा के सूरता ल संबोधित करिन।                                 

मुख्यमंत्री ह कहिन की डॉ. खूबचंद बघेल ह शिक्षा सहकारिता के छेत्र सहित सामाजिक आंदोलन म महत्वपूर्ण भूमिका निभाए हे। वो छत्तीसगढ़ के स्वप्न दृष्ट्या रहिन। अउ 1967 म छत्तीसगढ़ भातृ संघ के गठन करिन। अउ अलग छत्तीसगढ़ राज बनाए के मांग रखिन। मुख्यमंत्री ह कहिन की राज सरकार डॉ. बघेल के सपना ल पूरा करे के काम करत हे। ग्रामीण अर्थव्यवस्था ल मजबूती प्रदान करे बर राज सरकार दवारा अनेक योजना के संचालन करे जावत हे। गोधन के संरक्षण अउ संवर्धन बर गौठान ल माध्यम बनाए गए हे। मुख्यमंत्री  बघेल अउ कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ह ग्राम पथरी म डॉ. खूबचंद बघेल के पुण्यतिथि म ओकर प्रतिमा म श्रद्धा-सुमन अर्पित करिन। मुख्यमंत्री ह ए मउका म ग्राम पथरी के सड़क ल टू- लेन बनाए अउ नवा रायपुर के मुख्य चउक म डॉ. बघेल के आदमकद मूर्ति स्थापित करे के घोषणा करिन। ए मउका म कृषि मंत्री  रविन्द्र चौबे ह कहिन की पुरखा मन के सपना ल पूरा करे बर सरकार प्रतिबद्ध हे। किसान मन के हित बर सबो संभव कोशिश करे जावत हे। सरकार ह राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत किसान मन ल अदान सहायता के रूप म प्रोत्साहन राशि दे जाहि। गौठान के माध्यम ले लोगन मन ल रोजगार के मउका उपलब्ध कराए जाहि। गोबर खरीदी कर महिला स्व-सहायता समूह मन के माध्यम ले वर्मी कंपोस्ट के निर्माण के साथ ही अन्य आयमूलक गतिविधि मन म रोजगार उपलब्ध कराय जाहि।           

       मुख्यमंत्री ह ए मउका म स्वतंत्रता संग्राम सेनानी मन के वंशज मन ल सम्मानित करिन। कार्यक्रम म ओहर कृषि के छेत्र म उल्लेखनीय कार्य करइया कृषक मन ल उत्कृष्ट कृषक सम्मान से भी नवाजिन। कार्यक्रम म स्थानीय विधायक अनीता योगेंद्र शर्मा ह छेत्र के समस्या मन के बारे मे बताइन। कार्यक्रम म खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, राज्य महिला आयोग के अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक, पूर्व विधायक बलौदा बाजार  जनक राम वर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष  डोमेस्वरी वर्मा, जनपद अध्यक्ष श्री मति उत्तरा कमल भारती, ग्राम पथरी के सरपंच प्रीति सोनी, अनेक जनप्रतिनिधि, कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक  अजय यादव सहित बड़ संख्या म गांव के मनखे मन जुरियाइन।

पंचायत अउ ग्रामीण विकास के योजना के बेहतर क्रियान्वयन म केंद्र सरकार कोती छत्तीसगढ़ के 11 विशिष्ट पुरुस्कार

पंचायत अउ ग्रामीण विकास के योजना के बेहतर क्रियान्वयन म केंद्र सरकार कोती छत्तीसगढ़ के 11 विशिष्ट पुरुस्कार

06-Jun-2021

पंचायत अउ ग्रामीण विकास के योजना के बेहतर क्रियान्वयन म केंद्र सरकार कोती छत्तीसगढ़ के 11 विशिष्ट पुरुस्कार                             

   राज्यपाल ह कहिन की मोर सरकार ह पंचायत अउ ग्रामीण विकास के योजना ल तुरंत जरूरत ले जोड़त हुए अनेक नवाचार करिन, जेकर सति भारत सरकार ह छत्तीसगढ़ ल 11 विशिष्ट पुरुस्कार ले नवाजे हे। बछर 2019-20 म महात्मा गांधी नरेगा के अंतर्गत स्वीकृति मानव दिवस के लेबर बजट के लछ्य शत-प्रतिशत पूरा करिन। अउ बछर 2020-21 म उहू 81 प्रतिशत लछ्य ल पूरा करिन। जउन फिर से नवा कीर्तिमान कोती बढ़त कदम के प्रतीक हरय। महात्मा गांधी नरेगा म बीते 10 महीना म श्रमिक मन ल अब तक 2 हजार 590 करोड़ रुपया के मजदूरी के भुगतान करे गए हे। ए बछर अब तक 2 लाख 17 हजार 291 परिवार मन ल 100 दिन के रोजगार उपलब्ध कराए गे हे।     अउ कहिन की आने-आने योजना के संग महात्मा गांधी नरेगा के अभिसरण ले आंगनबाड़ी केंद्र, गौठान, वर्मी कम्पोस्ट युनिट, चारागाह,धान उपार्जन केंद्र म धान संग्रहण चबूतरा के निर्माण , नरवा के विकास सबो काम करे जात हे ।                                       सुश्री उइके ह कहिन की छत्तीसगढ़ राज ग्रामीण आजीविका मिसन 'बिहान' के भीतर कमजोर आर्थिक स्थिति वाले परिवार के 20 लाख महिला मन ल स्व-सहायता समूह ले जोड़े गिस, जउन परम्परागत रोजगार ल नवा अवसर म बदल के अपन परिवार अउ गांव के जीवन ल बदलत हे। आने-आने जिला म बीसी सखी के रूप म 3 हजार 500 महिला मन घर पहुच बैंक बन गे हे। एकर से ग्रामीण महिला मन के हौसला अउ रचनात्मक छमता भी लगातार बाढे हे ,जउन एक सुखद संकेत हरय।

किसान के हित म उठाय नवा-नवा कदम

किसान के हित म उठाय नवा-नवा कदम

06-Jun-2021

किसान के हित म उठाय नवा-नवा कदम-                                             

 सुश्री उइके ह कहिन की मोर सरकार म किसान के हित म जउन नवा-नवा कदम उठाए हन , ओकर सति ए बछर ब्याज मुक्त कृषि ऋण के रूप म 4 हजार 755 करोड़ रुपया के राशि वितरन के नवा रिकार्ड बने हे। लगभग 16 लाख किसान  ल किसान क्रेडिट कार्ड दे हे। प्राथमिक कृषि साख सहकारी सोसायटी के पुनर्गठन कर 725 नवा समिति मन पंजीकृत करे हे। जेकर से अब कुल समिति मन के संख्या 1 हजार 333 ले बाढ़ के 2 हजार 58 हो गए हे। उहे एक कोती जिहा गन्ना आधारित एथेनाल प्लांट लगाय जावत हे, उहे दूसर कोती धान आधारित एथेनाल प्लांट लगाय के मोर सरकार के नवाचारी सोच ल भी राष्ट्रीय स्तर म समर्थन अउ स्वीकृति मिले हे। मोर सरकार ह चाहत हे कि परदेस म धान के बम्पर पैदावार के बाद भी धान के कीमत के मान बने रहे, ओकर बर धान के खपत आने लाभप्रद उपक्रम मन म भी करे जाए। परदेस के अलग- अलग छेत्र म होने वाला अलग - अलग फसल मन के वेल्यु एडिसन हो एकर बर सबो विकासखंड फूड पार्क अउ वनोपज प्रसंस्करण केंद्र के स्थापन करे जात हे।

बिलासपुर जिला ल प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के किरियन्वयन बर मिलिस रास्ट्रीय अवार्ड,

बिलासपुर जिला ल प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के किरियन्वयन बर मिलिस रास्ट्रीय अवार्ड,

06-Jun-2021

बिलासपुर जिला ल प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के किरियन्वयन बर मिलिस रास्ट्रीय अवार्ड,      
किसान मन के फायदा हमर हमर सर्वोच्च पारथमिकता- भूपेश बघेल                    
मुख्यमंतरी भूपेश बघेल अउ किरिसि मंतरी रविन्द्र चौबे ह किसान मन ल बधई दिन।                                         
बिलासपुर जिला म प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के किरियन्वयन बर देस म सर्वोच्च स्थान मिलिस। बिलासपुर जिला ल ये गौरवपुरन उपलब्धि बर भारत सरकार के कृसि मंत्रालय ह 24 फरवरी के नवा दिल्ली म इनाम दिस।    
मुख्यमंतरी भूपेश बघेल अउ किरिसि मंतरी रविन्द्र चौबे राज्य बर येला गौरवपुरन उपलब्धि बताइस अउ येकर बर किसान मन ल बधई अउ सुभकामना दिन। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल कहिन कि प्रदेस सरकार किसान मन के कल्यान के छेत्र म पुरा निस्ठा अउ इमानदारी के साथ काम करत हे। राज्य के खेती-किसानी अउ किसान मन ल सम्पन्न बनाना हमर सर्वोच्च प्राथमिकता हवय। रास्ट्रीय स्तर म मिले सम्मान ये बात के संकेत हरय कि छत्तिसगढ़ कृसक कल्यान के छेत्र म देस के रोल मॉडल बने बर अग्रसर हे। 
छत्तिसगढ़ के बिलासपुर जिला किसान मन के आधार प्रमारिकरन अउ फायदा करे के मामला म देस म पहला जिला हरय। नवा दिल्ली म किरिसि अनुसंधान परिसद के एपी शिंदे हाल म 24 फरवरी के आयोजित एक कारयकरम म बिलासपुर जिला ल ये सम्मान दिस। 
बिलासपुर येकर पहिलि जल संरक्छन के मामला म रास्ट्रीय स्तर म सम्मान मिल रहिस। नदिया के संरक्छन अउ पुनरुद्धार बर बछर 2019 म बिलासपुर जिला ल नेसनल वाटर अवार्ड मिले रहिस।

महिला मन ल नियाय सरकार के पारथमिकता : भूपेश बघेल

महिला मन ल नियाय सरकार के पारथमिकता : भूपेश बघेल

06-Jun-2021

महिला मन ल नियाय सरकार के पारथमिकता : भूपेश बघेल
मुख्यमंतरी भूपेश बघेल छत्तिसगढ़ राज्य महिला आयोग के नवा कारयलय के करिन उद्घाटन
-----  -- 
रायपुर। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल छत्तिसगढ़ राज्य महिला आयोग के सास्तरी चउक स्थित नवा कारयलय भवन के उद्घाटन करिन। ये मउका म मुख्यमंती भूपेश बघेल कहिन कि महिला मन ल नियाय मिले, ये राज्य सरकार के पारथमिकता हे। राज्य सरकार गढ़बो नवा छत्तिसगढ़ के मंतरा लेके आगु बढ़त हे। आयोग घलो पीड़ित महिला मन ल नियाय दिलाय बर काम करत हे। 
महिला अउ बाल बिकास मंतरी अनिला भेंड़िया कहिन कि मुख्यमंतरी बघेल ह महिला ल अतका अधिकार दिस, जेकर सेती हर छेतरा म ओखर हउसला बाढ़िस। राज्य के उरजावान मुख्यमंतरी के सहयोग मिले के बाद महिला मन अउ उत्साह ले काम करत हे। राज्य महिला आयोग म किरणमयी नायक के अध्यक्छता म कई पेंडिंग मामला के तुरते समाधान होइस। येखर बर महिला आयोग ल गाड़ा गाड़ा बधई। 
अध्यक्छ डॉ. किरणमयी नायक कहिन कि रास्ट्रीय महिला आयोग म जाय ले पता चलिस कि जतका सक्ति छत्तिसगढ़ म महिला आयोग ल मिले हे, ओतका दूसर कोनो राज्य म नई मिले हे। मुख्यमंतरी बघेल के सहयोग ले परसासनिक अमला समेत पुलिस के सहयोग सल्लग आयोग ल मिलत हे। येखर सेती छत्तिसगढ़ महिला आयोग ह 51 जनसुनवाई म 1100 पकरन के निराकरन करिस।

छत्तिसगढ़ के गांव, गरीब अउ किसान के बजट

छत्तिसगढ़ के गांव, गरीब अउ किसान के बजट

06-Jun-2021

छत्तिसगढ़ के गांव, गरीब अउ किसान के बजट

-235 करोड़ रुपया इलेक्ट्रानिक, सूचना प्रौद्द्योगिक सेवा के बिस्तार बर।
-20.50 करोड़ रुपया 40 पालीटेक्निक संस्था म फर्नीचर, मसीन अउ उपकरन बर
-482 करोड़ रुपया नगरीय छेतर म अधोसंरचना बिकास बर
-45 लाख 48 हजार गारमीन के घर म 2023 तक नल कनेक्सन सुद्ध पेयजल के लक्ष्य
5703 राजीव गांधी नियाय योजना बर
-13839 करोड़ रुपया पुंजीगत व्यय
83028 करोड़ राजस्व व्यय के अनुमान
-बेमेतरा जिला के ग्राम गोढ़ी म बायो एथेनाल परदरसनी स्थल संयंतर के स्थापना करे जाहि। येमा धान अउ मक्का के संग दुसर किरिसि उत्पाद ले इधन तइयार होहि।
-------   -----
2021-22 के बजट 97,106 करोड़
 3702 करोड़ राजस्व घाटा के अनुमान

मुख्यमंतरी भूपेश बघेल एक मार्च के 97 हजार 06 करोड़ के बजट पेस करिन। ये बजट म एक बार फेर गांव अउ किसान मन बर फोकस करे गिस। किसान मन बर राजीव गांधी किसान नियाय योजना जारी रहि अउ भुमिहीन मजदुर बर नवा नियाय योजना सुरु करे के घोसना करिस। येखर संग ही गांव म रुरल इंडस्ट्रियल पारक बनाय जाहि।
छत्तिसगढ़ के सब्बो उत्पाद ल एक मंच परदान करे बर पुरा परदेस म सी मार्ट खोले जाहि। गांव के स्कुल, थाना, अस्पताल के सड़क ल जोड़हि अउ गांव म कउसल उन्नयन बर चार बिकास बोरड के गठन करे जाहि। 
करीब 3702 करोड़ रुपया के राजस्व घाटा के ये बजट म मुख्यमंतरी परदेस के हर वरग अउ छेतरा बर परवधान रखे हे। अपन तिसरा बजट पेस करत हुए भूपेश बघेल कहिन कि हमन सिरिफ सहर बनाय बर बस नई उहा लोगन ल बसाय म घलो बिस्वास ऱखथन। बजट म मछरी पालन ल किरिसि के समान दरजा देय के घोसना करिन। परंपरागत गारमीन व्यावसायिक कउसल ल पुनरजीवित करे बर चार नवा बिकास बोरड- तेलघानी, चरम सिल्पकार, लौह सिल्पकार अउ रजककार बिकास बोरड के गठन के ऐलान करिन।
राम वनगमन परयटन पथ बर 30 करोड़ के परवधान करे गिस। 119 नवा स्वामी आत्मानंद अंगरेजी माध्यम स्कुल अउ नवा रायपुर म रास्ट्रीय स्तर के बोरडिंग स्कुल के स्थापना के संग पढ़ना लिखना अभियानन योजना बर पांच करोड़ 85 लाख रुपया दिस। परसान ल लोगन के तिर म लाय बर 11 नवा तहसील व पांच नवा अनुबिभाग के संग रायपुर पश्चिम, जांजगीर चांपा के संग नक्सल आपरेसन बर मानपुर, बीजापुर अउ भानुप्रतापुर में पांच नवा अतिरिक्त पुलिस अधीक्छक कारयलय के स्थापना के घोसना करे गिस।

सड़क निरमान बर करीब 1200 करोड़ रुपया 
बजट म सड़क निरमान बर करीब 1200 करोड़ रुपया के परवधान करे गेय हे। छत्तिसगढ़ सड़क अउ अधोसंरचना बिकास निगम 5225 करोड़ के लागत के 3900 किमी लंबा सड़क अउ पुल पुलिया के निरमान करहि। मुख्यमंतरी सुगम सड़क योजना  म पहुंचहीन सासकीय भवन अउ कारयलय ल जोड़े जाहि। अभी 2195 सड़क बन गेय हे। उही एसियन डेवलपमेंट बैंक के सहायता ले फेज 4 परियोजना म 1275 किमी लंबाई के 31 रद्दा के सरवेक्छन करे गेय हे। ये परियोजना बर बजट म 940 करोड़ के परवधान करे गेय हे।
सहकारी समिति ल 50 हजार
किसान के सुविधा ल धियान म रख के पारथमिक किरिसि साख सहकारी समिति के पुनरगठन करके 725 नवा समिति क गठन करे जाहि।  ये परकार ले परदेस म समिति के संख्या 1333 ले बाढ़ के 2048 हो गेय। समिति म धान उपारजन समेत दुसर बेवस्था बर 50 हजार रुपए के सहायता देय जाहि। अउ सहकारी समिति म नरेगा योजना ले सात हजार 556 चबुतरा के निरमान करे गेय हे।
 सिक्छा
119 नवा अंगरेजी माध्यम के स्कुल 
नवा रइपुर म रास्ट्रीय स्तर के बोरडिंग स्कुल
कांकेर म बीएड कालेज बर एक करोड़ 
7 नवा कालेज अउ 3 गर्ल्स कालेज
स्वास्थ्य 
दुसरा बेटी होहि त महतारी ल 5 हजार रुपया
दुर्ग मेडिकल कालेज के सासकीयकरन
भिलई के रिसाली म 30 बेड के अस्पताल

समग्र बिकास 
गो धन नियाय योजना 175 करोड़
सहर म रोजगार बर पउनी पसारी योजना
राम वनगमन पथ बर 30 करोड़
अधोसंरचना
350 करोड़ के रायपुर म जेवलरी पारक
पहिली बार सड़क सुरक्छा निरमान योजना
नक्सल परभावित छेतर म 104 सड़क
तीज तिहार
स्थानीय तीज तिहार म सरकारी छुट्टी
अरपा पइरी के धार ल राजगीत के दरजा
हरेली, तीजा पोरा, गउरा गउरी ल गौरव
नवी रइपर बर 355
-----  -------
बस्तर टाइगर म 2800 पद
बस्तर टाइगर के नाव ले बिसेस बल के होहि गठन। बस्तर के सब्बो 7 जिला म 2800 युवा के भरती। कन्या छात्रावास अउ आश्रम रहइया नोनी मन बर 2200 महिला होमगार्ड के भरती।
एमएसपी के अलावा पोरत्साहन रासि मिलत रहि
राजीव गांधी किसान नियाय योजना म एमएसपी अउ पोरत्साहन रासि मिलहि। 5703 करोड़ के होइस परवधान।
बस्तर के 7 जिला अउ मुंगेली म 14 बिकास खंड म 150 करोड़ के चिराग योजना होहि सुरु।
मुफ्त पंप कनेक्सन बर 2500 करोड़ रुपया ।
सौर सुजला योजना म 530 करोड़ रुपया के परवधान।
सुन्य ब्याज दर म ये बछर 5900 करोड़ रुपया के मिलहि करजा।
ब्जाय के भरपाई  बर 275 करोड़ देहि सरकार।

-मजदूर पर हेल्प डेस्क अउ अस्पताल
मजदूर बर राज्य बीमा अस्पताल बर 114 करोड़।
कोरोना काल म असंगठित सुरक्छा कल्यान मंडल म पंजीकिरित मजदूर बर राज्य स्तरीय हेल्प डेस्क सेंटर।
असंगठित मजदूर, ठेका मजदूर, सफाई कामगार घरेलु कामकाजी महिला बर 61 करोड़ रुपया के परवधान।

आयोग के अध्यक्छ डॉ नायक

आयोग के अध्यक्छ डॉ नायक

26-May-2021

बस्तर म जनसनवाई के दउरान नगरनार स्टील प्लांट म-भूरभावित बेटी मन संग भेदभाव के सिकायत ऊपर आयोग के अध्यक्छ ह ऐतिहासिक फइसला सुनाइस। बेटी मन आयोग ल बताइस कि 2008 म जिल प्रसास स्टील प्लांट प्रभावित इलाका के किसान ह जमीन के बंटवारा बेटा अऊ बेटी म करे रहिस। 2010 म जमीन अधिगरन के दउरान बेटा अऊ बेटी के अलग-अलग खाता मान के मुआवजा दिस। फेर जब नौकरी देय के बारी आइस त बेटा मन ल ही नौकरी देय के निर्नय लिस। कहिन कि पुनरवास नीति म बेटी मन ल अलग परिवार के इकाई मान के नौकरी देय के नियम नई हे, त का बेटी मन ल जिये के अधिकार नई हे।
आयोग के अध्यक्छ डॉ नायक ह सुनवाई के दउरान परभावित बेटी मन ल नौकरी नई देना गलत बताइस अऊ कहिन कि एनएमडीसी पिता के जमीन अधिगरहित बेटी ल नौकरी दय।