राजा चक्रधर सिंह सम्मान

राजा चक्रधर सिंह सम्मान

02-Oct-2018
राजा चक्रधर सिंह सम्मान राजा चक्रधर सिंह के जन्म 19 अगस्त 1905 के रायगढ़ रियासत मं होय रहिस। नन्हें महराज के नाम ले पहिचाने जाने वाला चक्रधर सिंह ल संगीत विरासत मं मिले रहिस। 1924 मं राज्य भिसेक के पाछू उन अपन परोपकारी नीति अउ मृदुभासिता ले रायगढ़ रियासत मं जनता के बीच सीघ्र लोक प्रिय हो गइन। कत्थक नृत्य बर उनला खास करके जाने गईस। अपन अनुभूति अउ संग्रीत के गहराइ मं डूब के उनमन कत्थक के एक बिल्कुल नवां अउ विसिस्ट स्वरूप विकसित करिस। जेन ला रायगढ़ घराना के नाम ले जाने जाथे। उनमन कत्थक के अनेक नवां बंदिस तैयार करिन। नृत्य अउ संगीत के इन दुर्लभ बंदिस के संग्रह ग्रंथ के रूप मं आइस। जेमा मूरत परन पुस्पाकर ताल तोयनिधि राग रत्न मंजूसा अउ नर्तन स्वर्गस्वम विसेस रूप से उल्लेखनीय माने जाथे। संगीत के क्षेत्र मं उनमन विसिस्ट योगदान ल ध्यान करके मध्य प्रदेस सासन भोपाल मं चक्रधर नृत्य केंद्र के स्थापना करे हे। 17 अक्टूबर 1947 के रायगढ़ मं इनकर निधन होइस। फेर राजा चक्रधर सिंह अपन राजतंत्र मं सासन करते करत कला के प्रति जेन संवेदन सीलता के परिचय देइन वइसन दूसर मिसाल बहुत कम मिलथे। छत्तीसगढ़ सासन उनकर स्मृति मं कला अउ संगीत के खातिर ‘‘राजा चक्रधर सिंह सम्मान स्थापित करे हे। ये सम्मान 2001 ले स्थापित करे गेय हे।

leave a comment