विशेष पिछड़े जनजाति बैगा ल समाज के मुख्यधारा म लाय जाऐ :- डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम।

विशेष पिछड़े जनजाति बैगा ल समाज के मुख्यधारा म लाय जाऐ :- डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम।

06-Jun-2021

विशेष पिछड़े जनजाति बैगा ल समाज के मुख्यधारा म लाय जाऐ :- डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम।                                             

  तीन दिन के बैगा बाल महोत्सव के सुरुआत                                           

   बैगा समाज ल विकास के मुख्यधारा म जोड़े बर छत्तीसगढ़ सरकार प्रतिबद्ध।   

आदिम जाति अउ अनुसूचित जाति के विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ह कबीरधाम जिला के बैगा बाहुल्य पंडरिया विकासखंड ले दूरिया अउ कठिन बन गांव छिन्दीडीह म तीन दिन के बैगा महोत्सव के विधिवत सुरुआत करिन। मंत्री डॉ. टेकाम ह बैगा बाल महोत्सव के सुरुआत करत हुए स्थानीय वनोपज संसाधन मन के सामग्री ल लेके प्रदर्शनी के अवलोकन करे हे अउ बैगा नर्तक दल मन के संग गीत - संगीत म हिस्सा लेवत हुए बैगा आदिवासी मन के संग नृत्य भी करिन। मंत्री डॉ. टेकाम ह तीन अलग- अलग बैगा नर्तक दल मन ल 45 हजार के चेक वितरन करिन। लगातार 11 वा बछर बैगा समाज अउ अस्था समिति दवारा बैगा बाल महोत्सव के आयोजन करे जात हे।                               

  मंत्री डॉ. टेकाम ह बैगा बाल महोत्सव के सुरुआती मउका म कहिन की मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के अगुवाई म सरकार दवारा राज म रहिया खास पिछड़े जनजाति मन के संस्कृति अउ ओकर रखवाली अउ तरक्की के संग समाज ल विकास के मुख्यधारा म लाय बर कई महत्वपूर्ण फइसला लेवत हे। छत्तीसगढ़ राज म पांच खास पिछड़ा जनजाति बैगा, अबुझमाड़िया, कमार, पहाड़ी कोरबा अउ बिरहोर रइथे। ए सबो खास पिछड़ा जनजाति मन के विकास बर खास व्यवस्था कर गए हे। राज सरकार दवारा खास रुप से पिछड़े जनजाति मन के कला- संस्कृति ल सम्हाले बर जरुरी फइसला लेवत हे। अउ कहिन की बैगा बोली - भासा के बिसेसता अउ महत्व ल बनाए राखे बर बैगानी भासा म पाठ्य पुस्तक के प्रकाशन करत हे। अब इहा के लइका अपन भासा म पुस्तक ल पढ़त हे। डॉ. टेकाम ह कहिन की प्रदेश म कबीरधाम जिला पहिली जिला हरय  जिहा बैगा समाज के पढ़े- लिखे सैकड़ो शिक्षित युवक-युवती मन ल शाला संगवारी के रूप म चुनके रोजगार ले जोड़त हे। राज सरकार के नीति के परिणाम   हे कि आज बैगा समाज के युवक-युवती मन स्कूल के लइका मन ल पढ़ावत हे।                     

                                मंत्री डॉ. टेकाम ह कहिन की वनांचल अउ जंगल मन के बीच म सैकड़ो बछर ले रहिया मनखे मन के आर्थिक अउ सामाजिक विकास बर अनेक आयोजन बनाए जात हे। एकर अलावा ओमन ल आर्थिक रूप ले मजबूत अउ स्थानीय स्तर म रोजगार के मउका दे बर वनोपज संग्रहण बर नीति बनाय गए हे। वनोपज महुआ के समर्थन मूल्य 17 रुपया ले बढाके 30 रुपया प्रति किलो के दर निर्धारित कर दे हे। तेंदूपत्ता संग्रहण पारिश्रमिक दर 25 सौ रुपया ले बढ़ाके सीधा 4 हजार रुपया कर दे हे। प्रदेश भर म 856 बजार-हाट म छोटे वनोपज के खरीदी के नवा व्यवस्था करे से प्रदेश के किसान मन से लेके बन मन म रहिया लाखो निवासी मन ल एकर सीधा फाइदा मिलत हे। अउ कहिन की छत्तीसगढ़ सरकार दवारा तेंदूपत्ता जमा करइया मन ल समाजिक सुरक्षा के फाइदा दे बर सहित महेंद्र कर्मा तेंदूपत्ता संग्राहक समाजिक सुरक्षा योजना बनाए गए हे । पूरा प्रदेश म ए योजना के तहत तेंदूपत्ता संग्राहक म लगे हुए लगभग 12 लाख 50 हजार संग्राहक परिवार मन ल सामाजिक सुरक्षा के फाइदा मिलत हे। अउ बताइन की संग्राहक परिवार के सियान के स्वर्गवास होही त ओकर वारिश ल 4 लाख रुपया दे के नियम हे।                   

                                महोत्सव के सुरुआति मउका म  नीलकंठ चंद्रवंशी, मुकुंद माधव कश्यप,  रामकुमार सिन्हा, बैगा समाज के प्रदेशाध्यक्ष इतवारी बैगा,  लमतू राम बैगा, बैगा विकास अभिकरण के जिला अध्यक्ष श्री पुसूराम बैगा , बैगा समाज के जिला अध्यक्ष श्री कामु बैगा अउ कोरिया, मुंगेली, गौरेला पेंड्रा मरवाही जिला म रहिया बैगा समाज के जिला अध्यक्ष अउ पदाधिकारी बिसेष रूप ले उपस्थित रहिन।


leave a comment