मुख्यमंतरी भूपेश बघेल रेडियो वार्ता लोकवानी के दसवां कड़ी म कहिन- प्रदेस के आर्थिक-सामाजिक समस्या के समाधान, समावेसी बिकास से होही...

मुख्यमंतरी भूपेश बघेल रेडियो वार्ता लोकवानी के दसवां कड़ी म कहिन- प्रदेस के आर्थिक-सामाजिक समस्या के समाधान, समावेसी बिकास से होही...

13-Sep-2020

रायपुर। मुख्यमंतरी भूपेश बघेल इतवार के प्रसारित अपन रेडियो वार्ता लोकवानी के दसवां कड़ी म ‘समावेशी विकास-आपकी आस’ बिसय ऊपर अपन बिचार साझा करिन। कहिन कि महात्मा गांधी, पंडित नेहरू, सरदार पटेल, डॉ. अम्बेडकर, शास्त्री, आजाद, मौलाना जइसे हमर नेता जेन न्याय के बात करत रहिन। इंही बिरासत हमर बिकास के छत्तीसगढ़ी माडल हरय। समावेस के सरल अर्थ हरय- समाज के सब्बो वर्ग ल संग लेके चलना, सब्बो के भागीदारी, सबके बिकस के ब्यवस्था करना. भूपेश कहिन कि किसान ल जब हमन अर्थव्यवस्था के आधार मान लेबो त समावेसी बिकास तक पहुंच जाबो. छत्तीसगढ़ सरकार किसान ल अर्थव्यवस्था के केंद्र में राखिन. येकर संग ही अर्थव्यवस्था म किसान, ग्रामीन, अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति, पिछड़ा वर्ग, महिला मन के भागीदारी बढ़ाय के बड़का प्रयास करिस।   

सात करोड़ के लागत म विकसित करे जाहि ईको रिसार्ट अउ कैफेटेरिया
 

मुख्यमंतरी कहिन कि गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिला बने 6 महीन होय हे, नवा जिला म 100 करोड़ रुपया के बिकास कार्य के स्वीकृति मिलिस। मरवाही अनुभाग, मरवाही नगर पंचायत, सरकारी अंग्रेजी माध्यम स्कूल अउ महंत बिसाहूदास उद्यानिकी महाविद्यालय खोले गिस। जिला म पर्यटन बिकास के संभावना ल साकार  करे जाहि।
मुख्यमंतरी लोकवानी म घोसना करिस कि राजमेरगढ़ अउ कबीर चबूतरा म ईको रिजार्ट, कैफेटेरिया खोले जाहि। इंहा पर्यटन ल बढ़ावा देय जाहि. 7 करोड़ रुपया के बिकास कार्य जलदी सुरू होही।


leave a comment