पसुपालक ला लाभ पहुचाए म अगुवा छत्तीसगढ

पसुपालक ला लाभ पहुचाए म अगुवा छत्तीसगढ

03-Jul-2020

पसुपालक ला लाभ पहुचाए म अगुवा छत्तीसगढ
छत्तीसगढ़ देस के पहिली राज हे जेन पसुपालक मन ला फायदा पहुंचाए बर गोबर खरीदहि । गऊपालन ल लाभ पहुॅंचाए बर ,गोबर प्रबंधन अउ पर्यावरन सुरक्षा बर छत्तीसगढ़ म सुरू होही ‘ गोधन न्याय योजना’ 
हरेली तिहार ले होही ऐ अभिनव योजना के सुरूआतःश्री भूपेश बघेल
गऊ-पालन अउ गोबर प्रबंधन ले पसुपालक ला होही लाभ
निर्धारित दर म होही गोबर के खरीदी , सहकारी समितिय ले बिकही वर्मी कम्पोस्ट
गोबर के खरीदी के दर तय करेबर पांच सदस्यीय मंत्री मण्डल के उप समिति गठित
गोबर प्रबंधन के पूरा प्रक्रिया के निर्धारन करेही मुख्य सचिव के अध्यक्षता म सचिवमन के कमेटी


मुुख्यमंत्री श्री भूपेश बधेल छत्तीसगढ़ राज म गऊ-पालन ल आर्थिक रूप ले लाभदायी बनाये अउ खुले म चराई के रोकथाम अउ सडक , सहरमन जिहां-जिहां आवारा घुमत पसुअ मन के प्रबंधन अउ पर्यावरन के रक्षा बर छत्तीसगढ़ राज म गोधन न्याय योजना के सुरू करे के एलान करिस । ये योजना के सुरूआत राज म हरेली तिहार के सुभ दिन ले होही। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल अपन निवास कार्यालय म सभा कक्ष म आनलाईन राज सरकार के अभिनव योजना के जानकारी  दीन।
    मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ह गोधन न्याय योजना के बारे म विस्तार ले जानकारी देवत हुए बताईस कि ये योजना के उछेश्य प्रदेस म गौपालन ल बढ़ावा दे के साथ ही उनखरं सुरक्षा अउ उंखर माध्यम ले पसुपालक मन ला  आर्थिक रूप ले लाभ पहुचाना हे। उन मन कहिन कि छत्तीसगढ़ सरकार ह पाछु डेढ़ साल म छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी नरवा,गरूवा,बाड़ी के माध्यम ले राज के गा्रमीन अर्थव्यवस्था ल मजबूती ले दे जाही चार चिन्हारी ल बढ़ावा देे के प्रयास करे गिस हें। गांव म पसुधन के सरंक्षन अउ सवर्धन बर गौठान के निर्मान करे गे हे। राज म 2200 गांव म गौठान के निर्मान हो गे हे। अउ 2800 गांव म गौठान के निर्मान करे जात हे।आने वाला दू-तीन महीना म लगभग 5 हजार गांव म गौठान बन जाहीं। इन गौठान ल  हम आजीविका केन्द्र के रूप् म विकसित करे हनं। ईहां बड मात्रा म वर्मी कम्पोस्ट के निर्मान तक कहिला स्व-सहायाता समूह के माध्यम ले सुरू करे गिस।  मुख्यमंत्री ह कहिन कि गोधन न्याय योजना राज के पसुपालक के आर्थिक हित के संरक्षन के एक अभिनव योजना साबित होही। उन मन कहिन कि पसुपालक ले गोबर बिसाय बर एक रेट म करे जाही। दर के निर्धारित बर लिए कृषि अउ जल संसाधन मंत्री श्री रविन्द्र चैबे के अध्यक्षता म पांच सदस्य मंत्री मण्उलीय उप समिति गठित करे गिस।  ये समिति म वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर सहकारिता मंत्री मण्डीय उप समिति गठित करे गिस है। ये समिति म वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर, सहाकारित मंत्री डाॅ.प्रेमसाल सिंह टेकाम,नगरीय प्रसासन मंत्री डाॅ.सिव कुमार डहरिया, राजस्व मंत्री श्री जयसिहं अग्रवाल सामिल करे गे हे।ये मंत्री मण्डलीय समिति राज म किसान, पसुपालक , गौ -साला संचालक अउ बुद्धिजीवियों ल मन बात ल समझ के आठ दिन म गोबर खरिद के दर निर्धारित करही। मुख्यमंत्री ह कहिन कि गोबर खरीदी ले लेकर ओखर वित्तिीय प्रबंधन अउ वर्मी कम्पोस्ट के उत्पानल ले के ओखर बेचे के तरिका क निर्धारिन बर मुख्य सचिव के अध्यक्षता म प्रमुख्य सचिव के अध्यक्षता म प्रमुख सचिव अउ सचिव के कमेटी गठित करे गिस । उन मन कहिन कि राज म हरेली तिहार म पसुपालक अउ किसान बर गोबर निर्धारित दर म क्रय करे जाए के सुरूआत होही। ये योजना राज म  अर्थव्यवस्था ले अउ गा्रमीन अर्थव्यवस्था ल बेहतर बनाए के महत्वपून साबित होही अउ एखर दूरगामी परिनाम होहीेश्। एखर माध्यम ले गांव म रोजगार क अवसर तको बडहीं 


leave a comment