नक्सल प्रभावित जगह ले अनूसूचित जनजाति वर्ग के विरूद्ध प्रकरण मन के वापसी शुरू होईस

नक्सल प्रभावित जगह ले अनूसूचित जनजाति वर्ग के विरूद्ध प्रकरण मन के वापसी शुरू होईस

13-Dec-2019

नक्सल प्रभावित जगह ले अनूसूचित जनजाति वर्ग के विरूद्ध प्रकरण मन के वापसी शुरू होईस
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ह राज के नक्सल प्रभावित जगह विषेशकर बस्तर अंचल के अनूसूचित जनजाति वर्ग के रहईया अऊ गांव वालां मन के उत्पीड़न बर अबड़ चिंता करतर उन्खर खिलाफ पुलिस कोती ले दर्ज प्रकरण मन के समीक्षा करे के निर्णय ले गे रहिस। अब इन प्रकरण मन के वापसी ष्षुरू हो गे हे।
      राज सरकार  कोती ल मुख्यमंत्री के मन के अनुसार  8 मार्च 2019 के माननीय उच्चतम के न्यायमूर्ती श्री ए.के.पटनायक के अगुवाई म सात सदस्य समीक्षा समिती  का गठन करे गे हे। समिती के अनुषंसा ल छत्तीसगढ़ ष्षासन विधि अऊ विधायी कार्य विभाग कोता ले नक्सल प्रभावित क्षेत्र म अनुसूचित जनजाति वर्ग के रहय्या मन के विरूध दर्ज प्रकरण के समीक्षाके बाद अभियोजन वापस लिए जाऐ के निर्णय लिए जाही ।  विधी विभाग कोती ले ये संबध म आठ जिला के जिला अधिकारि मन दण्ड प्रक्रिया संहिता के धारा 321 के प्रावधान ले प्रकरण मन ला वापस लिये जाये के तत्काल कार्रवाही करे बर चिट्टी भेज दे गे हे। 
      न्यायमूर्ति श्री पटनायक के अध्यक्षता म गठित समिति के पहिली बईठक ये साल के 24 अप्रैल  अऊ दुसरय्या बईठक 30 अऊ 31 अक्टूबर म लिए गए निर्णय के अनुसार छत्तीसगढ़ आबकारी अधिनियम  ले 313 प्रकरण के वापसी के अनुषंसा करते हुए प्रकरण विधि विभाग भेजे गे रेहिस ।  समिती डहार ले भारतीय दण्ड विधान के आने 312 प्रकरण मन ला पुलिस महानिदेषक कोती ले  गठित एक समिती  ल परीक्षण बर भेजे गे रहिस है।,जेन धारा 265एं, 265बी अऊ 321 सी.आर.पी.सी. के प्रावधान ले अपन रिपोर्ट पटनायक समिति ला प्रस्तुत करही । एकरबर पुलिस महानिदेषक श्री डी.एम.अवस्थी कोति ले समिति के गठन करे जा चुके है।

 


leave a comment